विज्ञापन
विज्ञापन
कैसे मिलेगा नए साल में सभी परेशानियों से निवारण ? फ्री जन्मकुंडली बनवाएं और जानें !
Kundali

कैसे मिलेगा नए साल में सभी परेशानियों से निवारण ? फ्री जन्मकुंडली बनवाएं और जानें !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

Coronavirus In Uttarakhand: 24 घंटे में 120 नए संक्रमित मिले, छह मरीजों की मौत

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण की रफ्तार कम हो रही है। पिछले 24 घंटे के भीतर 120 नए संक्रमित मिले हैं। वहीं छह मरीजों की मौत हुई है। प्रदेश में संक्रमित मरीजों की मौत की संख्या 1617 पहुंच गई है। कुल संक्रमितों का आंकड़ा 94923 हो गया है। जबकि 2136 सक्रिय मरीजों का उपचार चल रहा है। 

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, रविवार को 11730 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। देहरादून में 36, चमोली में तीन, हरिद्वार में 23, नैनीताल में 38, अल्मोड़ा चार, रुद्रप्रयाग और पिथौरागढ़ में एक-एक,  ऊधमसिंहनगर 10 और उत्तरकाशी में चार नए मरीज आए हैं।  वहीं, बागेश्वर, पौड़ी गढ़वाल, और टिहरी गढ़वाल और चंपावत में एक भी भी संक्रमित मरीज नहीं मिला। 

यह भी पढ़ें: 
Corona Vaccination: सावधान! कोरोना वैक्सीन के पंजीकरण के लिए आया लिंक कहीं आपका बैंक खाता न कर दे खाली

वहीं, रविवार को 330 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। इन्हें मिला कर अब तक 89882 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। साथ ही रिकवरी दर 94.69% फीसदी है।
... और पढ़ें

Bird Flu: हरिद्वार में भी बर्फ फ्लू की दस्तक, कौवे का सैंपल आया पॉजिटिव, बाहरी राज्यों से मुर्गे लाने पर रोक 

उत्तराखंड में देहरादून और कोटद्वार के बाद अब हरिद्वार जिले में भी बर्ड फ्लू ने दस्तक दे दी है। वन विभाग की ओर से भेजे गए सैंपलों में से एक कौवे की बर्ड फ्लू की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। हालांकि, राहत देने वाली बात यह है कि पोल्ट्री फार्म से लिए गए सभी 54 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। 

जिलाधिकारी सी रवि शंकर ने बताया कि वन प्रभाग को जिले में अभी तक 14 पक्षी मृत मिले हैं। इनमें से 12 जनवरी को वन विभाग की ओर से जिले के विभिन्न स्थानों से मृत हालत में मिले चार कौवों के सैंपल को बर्ड फ्लू की जांच के लिए भोपाल भेजा गया था। जिनमें से रोशनाबाद स्पोर्ट्स स्टेडियम के पास से मृत मिले एक कौवे के सैंपल में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई। इसके अलावा इसी दिन पशुपालन विभाग विभाग की ओर से भी रुड़की और नारसन ब्लॉक क्षेत्र से पोल्ट्री फार्म और पालतू बत्तखों के 54 सैंपल जांच के लिए बरेली भेजे गए थे, लेकिन बरेली भेजे गए सभी सैंपल निगेटिव आए हैं।

जिलाधिकारी ने बताया कि बर्ड फ्लू का एक मामला सामने आने के बाद जनपद में 16 रेपिड रेस्पॉस टीम का गठन कर दिया गया है। जिसमें पशु चिकित्साधिकारी, पशु फार्मासिस्ट, पशुधन प्रसार अधिकारी और वैक्सीनेटर या पशुधन सहायक को शामिल किया गया है। टीम के सदस्य सैंपल लेने के साथ ही लोगों को जागरूक करने का कार्य करेंगे। इसके लिए जनपद में प्रचार-प्रसार के लिए होर्डिंग और बैनर भी लगाए जाएंगे। एक हेल्पलाइन नंबर भी बना दिया गया है। जिस पर बर्ड फ्लू से संबंधी कोई भी जानकारी दे सकते हैं। सूचना मिलने पर टीम सैंपल लेने से लेकर रोकने के लिए तुरंत आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। जिलाधिकारी ने बताया कि जल्द ही पॉल्ट्री फार्मों से सैंपल लेने का कार्य शुरू किया जाएगा। 

लालढांग में मृत मिला कौआ
लालढांग में सुदन डबराल के बगीचे में मृत कौआ मिलने से ग्रामीणों में हड़कंप मच गया है। चिड़ियापुर रेंज की वन चौकी कटेबड़ के वन कर्मियों को सूचना दे दी गई है। ग्रामीण सुदन डबराल ने बताया कि उनके बगीचे में मरा हुआ कौवा पड़ा दिखाई दिया। बर्ड फ्लू की आशंका को देखते हुए वन अधिकारियों को सूचित कर दिया गया है। मामले को देखते हुए ग्रामीणों में दहशत होने लगी है। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: मनरेगा कर्मियों के लिए अच्छी खबर, अब हर हाल में 150 दिन मिलेगा काम 

उत्तराखंड सरकार ने मनरेगा के तहत प्रदेश में लोगों को कम से कम 150 दिन रोजगार गारंटी देने का फैसला किया है। सोमवार को रोजगार गारंटी परिषद की बैठक में यह फैसला लिया गया। इसके लिए सरकार को करीब 20 करोड़ रुपये अतिरिक्त खर्च करने होंगे। केंद्र सरकार अभी मनरेगा के तहत 100 दिन न्यूनतम रोजगार गारंटी दे रही है।

सोमवार को सचिवालय में हुई रोजगार गारंटी परिषद की बैठक में सामने आया कि प्रदेश में जॉब कार्ड धारक अब 12 लाख से अधिक हो गए हैं। 2.66 लाख लोगों ने नए जॉब कार्ड बनवाए। मनरेगा से 1.63 लाख प्रवासी भी सीधे तौर पर जुड़े हैं। 50 दिन अतिरिक्त होने पर अब एक मनरेगा जॉब कार्ड होल्डर को कम से कम 10 हजार रुपये का फायदा होगा।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को मनरेगा के तहत बेहतर काम करने वाले जिलों के अनुभव अन्य जिलों से साझा करने का आदेश दिया। सीएम ने कहा कि जिलाधिकारी अपने स्तर से मनरेगा के तहत होने वाले कार्यों की 15 दिनों में जिला स्तर पर समीक्षा करें। जल स्रोतों के पुनर्जीवीकरण के लिए सुनियोजित तरीके से कार्य किया जाए। जिन नदियों के पुनर्जनन के लिए कार्य किए जा रहे हैं, उनकी जीआईएस मैपिंग हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिथौरागढ़ में मत्स्य और पौड़ी में पोषण वाटिका के प्रयोग अन्य जिलों में भी किए जाएं।

राज्य और जिला योजना के काम भी होंगे
बैठक में फैसला किया गया कि राज्य और जिला योजना में विभागों के स्तर पर आसानी से किए जा रहे कार्यों को मनरेगा से कराने को प्राथमिकता दी जाए। इसका कारण यह भी है कि इन कामों को कराने से राज्य सरकार राज्य और जिला योजना का पैसा भी बचा सकेगी। इस तरह का प्रयोग इस समय वन विभाग कर रहा है और कैंपा के तहत पौधरोपण का काम वन विभाग मनरेगा से करवाता है।

प्रवासियों को भायी मनरेगा
मनरेगा का सीधा फायदा लॉकडाउन के कारण वापस लौटने को विवश हुए प्रवासियों को भी हुआ है। करीब साढ़े तीन लाख प्रवासी वापस लौटे हैं और इनमें से 1.63 लाख मनरेगा से सक्रिय रूप से जुड़ गए हैं।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: एनआईओएस से डीएलएड करने वालों को शिक्षक भर्ती में नहीं मिलेगा मौका

उत्तराखंड में एनआईओएस से डीएलएड करने वालों को सरकारी स्कूलों में चल रही शिक्षकों की भर्ती में मौका नहीं मिलेगा। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने विभाग के अधिकारियों को इसके निर्देश दिए हैं। मंत्री ने कहा है कि इसके लिए हाल ही में जारी शासनादेश को संशोधित किया जाएगा। 

शिक्षा मंत्री ने सोमवार को सचिवालय में शिक्षा विभाग के अधिकारियों की बैठक ली। बैठक के बाद शिक्षा मंत्री ने कहा कि डायट (जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों) से सरकार जिन युवाओं को प्रशिक्षण करा रही है, उनकी नियुक्ति की जिम्मेदारी सरकार की है।

प्रदेश की डायटों से डीएलएड करने वालों को नियुक्ति दी जाएगी, जबकि एनआईओएस से डीएलएड करने वालों को शिक्षक भर्ती में शामिल नहीं किया जाएगा। हालांकि, प्रदेश के अन्य राज्यों से डीएलएड करने वालों को भी इस शिक्षक भर्ती में शामिल किया जाएगा। 

शिक्षा मंत्री से मिला डायट डीएलएड संघ का प्रतिनिधिमंडल
डायट डीएलएड संघ के अध्यक्ष पवन, सचिव श्वेेता राजपाल, हिमांशु जोशी, प्रकाश रानी और शुभम पंत ने सोमवार को सचिवालय में शिक्षा मंत्री से मिलकर एनआईओएस से डीएलएड करने वालों को शिक्षक भर्ती में शामिल करने के शासनादेश को निरस्त करने की मांग की थी। जिस पर शिक्षा मंत्री ने प्रतिनिधिमंडल को आवश्यक कार्रवाई का आश्वासन दिया। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: दो दिन के अंदर 9वीं-11वीं और एक फरवरी से छह से 12वीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए खुलेंगे स्कूल 

प्रतीकात्मक तस्वीर
उत्तराखंड में बोर्ड के छात्रों के बाद अब नौ महीने बाद 9वीं और 11वीं कक्षाओं के छात्र-छात्राओं के लिए स्कूल खोलने को राज्य सरकार ने हरी झंडी दे दी है। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने सोमवार को सचिवालय में विभाग के अधिकारियों के साथ हुई बैठक में इन कक्षाओं के छात्रों के लिए तत्काल स्कूल खोलने के निर्देश दिए। इसके अलावा छह से आठवीं कक्षा के छात्र-छात्राओं के लिए एक फरवरी से स्कूल खोलने के निर्देश दिए गए हैं।  

शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने कहा कि कोविड-19 की वजह से प्रदेश में पिछले कई महीनों से स्कूल बंद हैं, लेकिन अब स्थिति कुछ सामान्य हो गई है। जिसे देखते हुए 9वीं और 11वीं कक्षाओं के छात्रों के लिए तत्काल स्कूल खोलने के निर्देश दिए गए हैं। मंत्री ने कहा कि इसी हफ्ते अगले दो से चार दिनों के भीतर इन कक्षाओं के छात्रों के लिए स्कूलों को खोल दिया जाएगा। जबकि एक फरवरी से छह से आठवीं कक्षाओं के छात्र-छात्राओं के लिए स्कूलों को खोलने के निर्देश दिए गए हैं। 

पहली से पांचवीं कक्षाओं तक के बच्चे फिलहाल घर से ही पढ़ेंगे
उत्तराखंड में स्कूलों को खोलने के बारे में शिक्षा विभाग की ओर से प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है, लेकिन इस पर अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री लेंगे। शिक्षा मंत्री ने कहा कि इस प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री और कैबिनेट बैठक में निर्णय के बाद स्कूलों को खोल दिया जाएगा। एक से पांचवीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए स्कूल खोले जाने के मसले पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है। 

कोविड की गाइड लाइन का पालन होगा जरूरी
शिक्षा विभाग के अधिकारियों के मुताबिक शिक्षा मंत्री के निर्देश के बाद स्कूल खोले जाने का प्रस्ताव तैयार कर इसे शासन को भेजा जा रहा है। स्कूल खुलने से पहले एसओपी जारी की जाएगी। इसके बाद ही कोविड 19 की गाइड लाइन का पालन करते हुए स्कूलों को खोला जाएगा। 

फरवरी के पहले हफ्ते में खुलेंगे सभी विश्वविद्यालय और कॉलेज
उत्तराखंड के सभी विश्वविद्यालय और महाविद्यालय भी फरवरी के पहले हफ्ते में खुल जाएंगे। उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने हाल ही में सभी कुलपतियों के साथ हुई बैठक में बनी सहमति के बाद यह फैसला लिया। महाविद्यालय खोले जाने को लेकर सभी ने सहमति जताई थी।

शिक्षा विभाग के अधिकारियों को स्कूल खोलने के निर्देश दिए गए हैं। अधिकारी इसके लिए प्रस्ताव तैयार करेंगे, अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री के स्तर पर लिया जाना है। 
-अरविंद पांडे, शिक्षा मंत्री
... और पढ़ें

देहरादून:  डीएनए सैंपलिंग के लिए कोर्ट में पेश नहीं हुए विधायक महेश नेगी, 27 फरवरी की मिली अगली तारीख

उत्तराखंड में द्वाराहाट के विधायक महेश नेगी डीएनए सैंपलिंग के लिए सोमवार को सीजेएम कोर्ट में पेश नहीं हुए। उनके अधिवक्ता ने उनके न आने का कारण बताते हुए अगली तिथि तय करने की मांग की थी। इस पर अदालत ने अब इस मामले में 27 फरवरी की तिथि दी है। 

दरअसल, बीती 11 जनवरी को विधायक महेश नेगी को डीएनए सैंपलिंग के लिए सीजेएम कोर्ट में प्रस्तुत होना था। लेकिन, इसी दिन उन्होंने फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील की थी। इस पर हाईकोर्ट ने 14 जनवरी तक सैंपलिंग पर रोक लगा दी थी। हाईकोर्ट के फैसले के बाद स्थानीय अदालत ने सोमवार का दिन सैंपलिंग के लिए तय किया था। इससे पहले हाईकोर्ट ने विधायक के प्रार्थनापत्र को सुनने से इनकार कर दिया था और नई बेंच बनाने की बात कही थी। 

वहीं, सोमवार को विधायक सैंपलिंग के लिए नहीं पहुंचे, मगर उनके वकील राजेंद्र भट्ट ने कोर्ट में प्रार्थनापत्र प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में हाईकोर्ट में छुट्टियां चल रही हैं। 21 फरवरी को हाईकोर्ट खुलेगा। इसके बाद ही नई बेंच पर निर्णय होना है। 

लिहाजा, इस मामले में अब अगली तारीख तय की जाए। इस पर कोर्ट ने अब 27 फरवरी की तिथि नियत की है। सोमवार को विधायक की ओर से तीन अधिवक्ता प्रस्तुत  हुए थे। इनमें राजेंद्र भट्ट स्थानीय थे। जबकि, राजेंद्र कोठियाल और रवि जोशी हाईकोर्ट नैनीताल से देहरादून पहुंचे थे।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: शासन ने एडीएम अरविंद पांडेय को पद से हटाया, सीएम ने दिए विजिलेंस जांच के आदेश

Roorkee News: देहरादून से दिल्ली जाते समय बस से उतरते ही हिल डिपो के चालक की मौत

देहरादून से दिल्ली जाते समय हिल डिपो का चालक रुड़की बस अड्डे पर बस से नीचे उतरते ही जमीन पर गिर पड़ा। अचेत अवस्था में कर्मचारियों ने उसे अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस तरह अचानक चालक की मौत से बस अड्डा परिसर और सवारियों में अफरातफरी मच गई। कर्मचारियों ने मामले की सूचना परिजनों को दी। डॉक्टरों ने हार्टअटैक से मौत की आशंका जताई है। फिलहाल चालक का शव पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल में रखवाया गया है।

जानकारी के अनुसार, विनोद शर्मा (45) निवासी बिहारीगढ़, सहारनपुर, यूपी सोमवार को हिल डिपो देहरादून की बस लेकर परिचालक रमेश कुमार के साथ दिल्ली के लिए रवाना हुए थे। दोपहर करीब एक बजे वह बस लेकर रुड़की बस अड्डे पहुंचे। यहां बस खड़ी कर नीचे उतरे तो अचानक जमीन पर गिर पड़े। डिपो के कर्मचारी मौके पर पहुंचे और आननफानन उन्हें एक निजी अस्पताल ले जाया गया। यहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

डॉक्टर ने आशंका जताई कि हार्टअटैक से मौत हुई है। कर्मचारियों ने घटना की सूचना मृतक के परिजनों को दी। कुछ ही देर में परिजन रुड़की पहुंचे और अस्पताल से शव ले गए। रुड़की रोडवेज डिपो के एसएसआई विवेक कुमार ने बताया कि चालक का शव पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल में रखवा दिया गया है। डिपो परिसर में चालक की मौत हो गई थी।

...तो हो सकता था बड़ा हादसा
विनोद शर्मा देहरादून से दिल्ली के लिए बस लेकर निकले थे। बताया जा रहा है कि बस में 34 यात्री सवार थे। गनीमत रही कि रास्ते में यह घटना नहीं हुई। अगर रास्ते में यह घटना होती तो बड़ा हादसा हो सकता था। यात्रियों ने बताया कि वह देहरादून से अच्छे से बस चलाकर रुड़की तक आए। किसी को जरा सा भी इल्म नहीं था कि चालक यूं अचानक काल के गाल में चले जाएंगे।

‘वेतन न मिलने से परेशान हैं कर्मचारी’
रोडवेज कर्मचारी यूनियन के शाखा मंत्री प्रदीप शर्मा ने बताया कि वेतन नहीं मिलने से रोडवेज कर्मचारी परेशान चल रहे हैं। इसके चलते उन्हें खराब आर्थिक स्थित से गुजरना पड़ रहा है। उन्होंने आशंका जताई कि वेतन नहीं मिलने से बस चालक भी डिप्रेशन में चल रहा होगा। उन्होंने चेतावनी दी कि जल्द ही वेतन जारी नहीं किया गया तो प्रदेश स्तर पर बड़ा आंदोलन किया जाएगा।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X