विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

किसी परिचय के मोहताज नहीं लोक गायक जगदीश

हिमाचली लोक कलाकारों में जगदीश शर्मा किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। बंजार के छोटे से गांव के जगदीश युवाओं के बीच खास जगह बना चुके हैं।

16 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

शिमला

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2020

युवाओं ने लगाई बाहरी लोगों के प्रवेश पर पाबंदी

निजामुद्दीन में मिली हमीरपुर के 44 लोगों की लोकेशन, सभी हिंदू

जिला हमीरपुर अभी कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित है। जिला वासियों के लिए दिल्ली से भी राहत की खबर आई है। अभी तक प्राप्त रिकॉर्ड के मुताबिक जिले से एक भी व्यक्ति ऐसा नहीं है, जिसने दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित तब्लीगी जमात मकरज के जलसे में भाग लिया। हालांकि, निजामुद्दीन के इर्द-गिर्द हमीरपुर के 44 लोगों की मोबाइल लोकेशन मिली है, लेकिन इनमें कोई भी मुस्लिम समुदाय से नहीं है।

लोकेशन में मिले सभी लोग हिंदू पाए गए हैं। ये वहां बैंक समेत विभिन्न सरकारी और निजी कंपनियों में कार्यरत हैं। पुलिस ने जिले की सभी 14 मस्जिदों का निरीक्षण भी किया है। जिला पुलिस ने इसके लिए दो टीमें बनाई हैं। ये टीमें कार्यालय में रिकॉर्ड तैयार करेंगी तो दो अन्य टीमें फील्ड में डाटा एकत्रित करेंगी। 

उधर, एसपी अर्जित सेन ठाकुर ने कहा कि दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीग मकरज कार्यक्रम में हमीरपुर जिले से एक भी व्यक्ति नहीं है। हमीरपुर के 44 लोगों की टावर लोकेशन जरूर मिली है, लेकिन इनमें कोई भी मुस्लिम समुदाय से नहीं। यह सभी लोग हिंदू हैं। वे वहां बैंक समेत विभिन्न सरकारी और निजी कंपनियों में कार्यरत हैं।
... और पढ़ें

अटल टनल रोहतांग का निर्माण करने के लिए दी मंजूरी

सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण अटल टनल का कार्य शुरू करने को मंजूरी मिल गई है। हिमाचल में लॉकडाउन और कर्फ्यू के चलते अटल टनल का काम बंद हो गया था। इससे सुरंग का निर्माण समय पर पूरा नहीं होने की चिंता बढ़ गई थी। ऐसे में अटल टनल के मुख्य अभियंता केपी पुरुषोत्तम ने उपायुक्त कुल्लू से टनल का कार्य शुरू करने की मंजूरी मांगी थी।

वीरवार को जिला प्रशासन ने शर्तों के साथ टनल निर्माण को मंजूरी दी है। परियोजना प्रबंधन को कोविड-19 के लिए बरतने वाले नियमों का पालन करने के भी सख्त निर्देश दिए हैं। प्रशासन ने कहा है कि परियोजना प्रबंधन को सुरक्षित और सैनिटाइजर सुविधा अधिकारियों और कर्मचारियों को देनी होगी। इस दौरान यातायात के लिए उपयुक्त होने वाले वाहनों को दिन में दो बार सैनिटाइज करना होगा। 

कोविड-19 के तहत टनल का निर्माण उपयुक्त एक मीटर की दूरी पर करना होगा। निर्माण में लगे कर्मचारियों, अधिकारियों और टेक्निकल स्टाफ की रोजाना स्वास्थ्य जांच करनी होगी। उल्लेखनीय है कि टनल निर्माण में लगे इंजीनियर और श्रमिक अधिकतर विदेशी हैं। तुर्की, फ्रांस तथा ऑस्ट्रेलिया सहित कई अन्य देशों के इंजीनियर अनेकों कंपनियों में कार्यरत हैं।

इसके अलावा सैकड़ों की संख्या में नेपाली और प्रवासी श्रमिक कार्य कर रहे हैं। मनाली-लेह मार्ग में बन रही 8.8 किमी लंबी अटल टनल को इसी वर्ष जुलाई-अगस्त तक पूरा करने का लक्ष्य रखा है। उधर, अटल टनल के मुख्य अभियंता केपी पुरुषोत्तम ने कहा कि जिला प्रशासन से सुंरग के निर्माण की मंजूरी मांगी थी। प्रशासन ने वीरवार को कुछ शर्तों के साथ अटल टनल के निर्माण की मंजूरी दे दी।
... और पढ़ें

हिमाचल में बिना परीक्षा परिणाम घोषित अगली कक्षा में प्रमोट होंगे लाखों विद्यार्थी

हिमाचल के ग्रीष्मकालीन स्कूलों की गैर बोर्ड कक्षाओं में पढ़ने वाले लाखों विद्यार्थी परीक्षा परिणाम घोषित हुए बिना ही अगली कक्षाओं में प्रोमोट किए जाएंगे। शुक्रवार को हिमाचल मंत्रिमंडल की बैठक में इसको लेकर सैद्धांतिक मंजूरी दे दी गई है।

गैर बोर्ड वाली आठ कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए कई अन्य राज्यों सहित सीबीएसई की तर्ज पर जयराम सरकार ने यह फैसला लिया है। इस संदर्भ में शिक्षा विभाग से अधिसूचना जारी होते ही लाखों विद्यार्थी बिना परीक्षा परिणाम घोषित अगली कक्षाओं में पहुंच जाएंगे। पहली से चौथी, छठी, सातवीं, नवीं और 11वीं कक्षा के लिए सरकार ने व्यवस्था की है।

शुक्रवार को राज्य सचिवालय में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने यह मामला उठाया। उन्होंने परीक्षा परिणाम के इंतजार में बैठे विद्यार्थियों के भविष्य को लेकर जल्द निर्णय लेने की मांग की। सरकार ने शिक्षा मंत्री की मांग को सैद्धांतिक तौर पर मंजूरी देते हुए शिक्षा विभाग की ओर से प्रस्ताव भेजने को कहा गया।

विभागीय प्रस्ताव को मंजूरी मिलते ही अधिसूचना जारी हो जाएगी।  बता दें ग्रीष्मकालीन स्कूलों में बीते दिनों ही इन कक्षाओं में पढ़ने वाले विद्यार्थियों की परीक्षाएं ली गई हैं। प्रदेश में लॉकडाउन और कर्फ्यू के चलते इन कक्षाओं के विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन नहीं हो पाया है। इसी को देखते हुए ये फैसला लिया है। 

चार बोर्ड कक्षाओं को लेकर फिलहाल नहीं हुआ फैसला
 चार बोर्ड कक्षाओं पांचवीं-आठवीं और 10वीं व 12वीं कक्षा के परीक्षा परिणामों को लेकर भी कैबिनेट बैठक में चर्चा हुई लेकिन, इस बाबत कोई फैसला नहीं हुआ। सूत्रों ने बताया कि इन कक्षाओं को लेकर सरकार 14 अप्रैल तक लगे लॉगडाउन के समाप्त होने के बाद कोई फैसला लेगी।
... और पढ़ें
फाइल फोटो फाइल फोटो

हिमाचल में कोरोना से निपटने को आउटसोर्स पर रखा जाएगा स्टाफ, पढ़ें कैबिनेट के बड़े फैसले

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में शुक्रवार को आयोजित हिमाचल मंत्रिमंडल की बैठक में कई बड़े फैसले लिए गए। कैबिनेट ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए भी बड़ा फैसला लिया है। बैठक के दौरान राज्य में कोरोना वायरस की स्थिति की समीक्षा की गई। मंत्रिमंडल ने कोरोना के सक्रिय मामले खोजने का अभियान चलाने का निर्णय लिया और इस अभियान को शुरू करने के लिए स्वास्थ्य विभाग को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इसके तहत प्रदेश में आठ हजार टीमें बनाकर घर-घर भेजी जा रही है। साथ ही बताया गया कि अब तक कुल 4038 लोगों को निगरानी में रखा गया है और 1655 लोग 28 दिन की निगरानी अवधि पूरी कर चुके हैं। वर्तमान में अब 1383 लोग क्वारंटीन चल रहे हैं। वहीं, कुल 296 लोगों की जांच की जा चुकी है और छह लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। 
... और पढ़ें

#ladenge corona se: घर पाठशाला और अभिभावक बनेंगे शिक्षक, लगेगी दो घंटे की क्लास

हिमाचल में शनिवार सुबह 10 से 12 बजे तक घर पाठशालाएं और अभिभावक शिक्षक बनेंगे। कोरोना वायरस से बचाव को बंद हुए सरकारी स्कूलों के बच्चों की पढ़ाई जारी रखने को शिक्षा विभाग नया प्रयोग कर रहा है। समय 10 से 12 वाला, हर घर बने पाठशाला अभियान के तहत शिक्षक व्हाट्सऐप ग्रुप बनाकर अभिभावकों को पढ़ाई करवाने के वीडियो और होमवर्क भेजेंगे। विभाग की विशेष टीमें शिक्षकों को इस माध्यम से पढ़ाई करवाने के लिए सामग्री भेजेगी।

 व्हाट्सऐप ग्रुप पर बच्चे शिक्षकों को मेसेज कर विषय संबंधी शंकाएं दूर कर सकेंगे। शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने बताया कि स्कूल बंद होने से पढ़ाई प्रभावित न हो, इसके लिए नया प्रयोग किया जा रहा है। उन्होंने अभिभावकों से इस अभियान को सफल बनाने की अपील की है। समय 10 से 12 वाला, हर घर बने पाठशाला अभियान के तहत बच्चों को रोजाना दो घंटे पढ़ाई करवाने को स्टडी मैटेरियल तैयार कर लिया है। शनिवार से अभियान की शुरूआत होगी।

शिक्षकों को अपने-अपने स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों के फोन नंबरों को जोड़कर कक्षावार व्हाट्सऐप ग्रुप बनाने को कहा है। अभियान के तहत शिक्षकों के व्हाट्सऐप ग्रुप बनाए गए हैं। ग्रुप में रोजाना अध्ययन सामग्री अपलोड की जाएगी।  फिर कक्षाओं के अनुसार शिक्षक अभिभावकों के ग्रुप में उसे भेजेंगे। अगर किसी बच्चे या अभिभावक को कोई बात समझ नहीं आती है तो वो संबंधित शिक्षक से सवाल कर सकेंगे। मंत्री ने बताया कि अधिक दिनों तक स्कूल बंद होने से बच्चों की पढ़ाई को लेकर रुचि कम न हो इसके लिए विशेषज्ञों से चर्चा करने के बाद यह अभियान शुरू करने का फैसला लिया गया है।

उन्होंने कहा कि स्कूल खुलने तक रोजाना दो घंटे सुबह 10 से 12 बजे तक बच्चों को इस माध्यम से पढ़ाया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस तकनीक से बच्चे बोर भी नहीं होंगे। स्टडी मैटेरियल को बच्चों के इंटरेस्ट के अनुसार तैयार किया गया है। शिक्षा मंत्री ने कहा कि अभिभावकों को सही मायने में शिक्षक बनना होगा ताकि उनके बच्चों की शिक्षा प्रभावित न हो।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस: महिला उद्यमी की मौत के बाद बद्दी में अलर्ट, जानिए कितने संपर्क में आए

कोरोना वायरस संक्रमित महिला उद्यमी की पीजीआई में मौत होने के बाद बद्दी में कई लोगों पर वायरस के संक्रमण का खतरा मंडरा रहा है। मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए प्रशासन हाई अलर्ट पर है। महिला के संपर्क में आने वाले संभावित लोगों की पहचान की जा रही है। इन लोगों को आइसोलेट करने के साथ ही कोविड-19 के टेस्ट किए जा रहे हैं। रिपोर्ट आने के बाद ही इस बात का खुलासा हो पाएगा कि आगे कोई संक्रमित तो नहीं हुआ।

एसपी कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक चार परिवार अपनी निजी गाड़ी में 15 मार्च को दिल्ली से बद्दी आए थे। सभी दिल्ली के रहने वाले हैं। इनमें बद्दी की एक हेलमेट कंपनी के मालिक और पत्नी भी शामिल हैं। इन परिवारों ने कोई विदेश यात्रा नहीं की है। दिल्ली से लौटने के बाद यह चारों परिवार कंपनी के गेस्ट हाउस में ही रहे। हालांकि कंपनी के अंदर ही बने मंदिर में यह सभी पूजा अर्चना के लिए जाते थे। कंपनी के भीतर दो गेस्ट हाउस हैं जिनमें एक कंपनी के निदेशकों और दूसरा कर्मचारियों के लिए बनाया गया है।

ड्राइवर कर्मचारियों के लिए बने गेस्ट हाउस में ठहरा हुआ था। साफ सफाई के लिए रखा नौकर भी गेस्ट हाउस में ही ठहरा था। खाना बनाने के लिए रखे दोनों कुक 10-15 मार्च के बीच घर गए थे। उसके बाद लौट आए। इसके अलावा कंपनी में काम करने वाले दो अन्य लोग 26 फरवरी को यूपी अपने गांव गए थे और वापस आ गए थे। एक अन्य होली पर दिल्ली स्थित अपने घर गया था और फिर लौट आया।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस: हिमाचल में तब्लीगी जमात के 11 लोग गिरफ्तार

कोरोना वायरस
तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों द्वारा सूचना छिपाने पर अब हिमाचल पुलिस ने सख्ती शुरू कर दी है। शुक्रवार को पुलिस ने तब्लीग से जुड़े 24 लोगों के खिलाफ कुल छह एफआईआर दर्ज कर दी है। यही नहीं इनमें से 11 लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया गया है। गिरफ्तारी के बाद सभी को क्वारंटीन सेंटर भेज दिया है। विभाग का कहना है कि जो लोग खुद से अपने तब्लीग या किसी अन्य जगह से आने की सूचना जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग या पुलिस को देंगे, उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होगी, लेकिन जो जानकारी छिपाएंगे और पुलिस ढूंढ निकालेगी तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। पुलिस की इस कार्रवाई के साथ ही अब तब्लीग जमात से जुड़े कुल 204 लोगों को चिह्नित कर क्वारंटीन किया जा चुका है। डीजीपी सीताराम मरडी ने बताया कि प्रदेश में अब तक कुल 358 एफआईआर दर्ज की गई है और 372 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।
... और पढ़ें

हिमाचल: एक दिन में 35 लोगों को मिलेगा सस्ता राशन, कर्फ्यू के चलते लिया फैसला

हिमाचल के राशन कार्ड उपभोक्ताओं को डिपो में शुक्रवार से राशन मिलना शुरू हो गया है। सरकार ने सस्ता राशन आवंटन के साथ साथ डिपो होल्डरों को निर्देश दिए हैं कि एक दिन में 30 से 35 लोगों को सस्ता राशन दे। यह इसलिए ताकि डिपो में लोगों की भीड़ न उमड़ सके। हिमाचल में कोरोना को लेकर कर्फ्यू के चलते यह फैसला लिया गया है।

हिमाचल के राशन कार्ड उपभोक्ताओं को इस महीने दो कोटे का राशन मिलेगा। इनमे एक कोटा अप्रैल की 10 तारीख से पहले जबकि दूसरा कोटा इसी महीने 20 तारीख के बाद दिया जाएगा। इसके अलावा पांच किलोग्राम अतिरिक्त चावल मिलेगा। हिमाचल में साढ़े 18 लाख राशन कार्ड उपभोक्ता है जिन्हें डिपो से सस्ता राशन दिया जा रहा है। खाद्य आपूर्ति सचिव अमिताभ अवस्थी ने बताया किया डिपो में राशन की सप्लाई भेज दी है। 
... और पढ़ें

कोरोना वायरस से जंग लडे़ंगे शिक्षक, नाकों पर लगी ड्यूटी

प्रदेश के सरकारी स्कूलों में नियुक्त शिक्षक भी अब कोरोना से जंग लड़ेंगे। शिक्षकों की ड्यूटी नाकों पर लगा दी गई है। बिलासपुर जिला प्रशासन ने नयनादेवी से इसकी शुरूआत की है। आने वाले दिनों में अन्य जिलों में शिक्षकों की ड्यूटियां लगाई जाएंगी। अभी तक कर्फ्यू के चलते शिक्षक घरों में ही थे। उपमंडल अधिकारी नयनदेवी ने 11 प्राथमिक सहायक शिक्षकों सहित जेबीटी की ड्यूटी लगाई है।

कोरोना संक्रमण के दौरान नाका पर पूर्ण प्रबंध करने के लिए शिक्षकों की ड्यूटियां लगाई जा रही हैं। उपमंडल अधिकारी ने सुबह आठ से रात आठ बजे तक ड्यूटी का समय तय किया है। शिक्षकों की ड्यूटी गरा मौडा नाका, माजरी नाका, दबट नाका, टोबा नाका, बस्सी नाका, ग्वलथाई नाका और जंडोरी नाका पर लगाई गई है। इन सभी शिक्षकों को तहसीलदार स्वारघाट को रिपोर्ट करना होगा।
... और पढ़ें

हिमाचल के लिए राहत की खबर, कोरोना पॉजिटिव महिला की तीसरी रिपोर्ट निगेटिव

हिमाचल के कांगड़ा जिले में डॉ. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल टांडा से राहत भरी खबर आई है। 20 मार्च से टांडा में उपचाराधीन कोरोना पॉजिटिव दुबई से लौटी महिला के तीसरे सैंपल की रिपोर्ट शुक्रवार को निगेटिव आई है। पहले दो सैंपल की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी। दो अप्रैल को महिला का तीसरा सैंपल लिया था, जिसकी जांच टांडा अस्पताल की लैब में की गई, जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आई है।

शनिवार को महिला का एक और सैंपल लिया जाएगा। अगर जांच में चौथा सैंपल निगेटिव आता है, तो महिला को अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी। इसके अलावा टांडा अस्पताल की लैब में तीन अन्य संदिग्ध मरीजों के सैंपलों की रिपोर्ट भी सामान्य आई है। तीन संदिग्ध मरीज दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात से कांगड़ा जिले में वापस आए थे, जबकि एक मरीज का सैंपल फेल हुआ है, जो दोबारा लिया जाएगा।

उधर, सीएमओ कांगड़ा डॉ. गुरदर्शन गुप्ता ने पुष्टि करते हुए कहा कि अभी तक कांगड़ा जिले में कोरोना पॉजिटिव एक मरीज की मौत हुई है, जबकि एक को ठीक होने के बाद घर भेज दिया है। महिला मरीज के तीसरे सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है। महिला के स्वास्थ्य में लगातार सुधार हो रहा है। टांडा में निजामुद्दीन मरकज से लौटे मंडी के तीन पॉजिटिव मरीजों का भी इलाज चल रहा है। 

 
... और पढ़ें

सोमालिया जाना चाहते थे तीनों कोरोना पॉजिटिव समेत सात लोग, परिजनों ने किया खुलासा

दिल्ली में तब्लीगी जमात की मरकज से लौटे मंडी जिले के तीन युवक कोरोना पॉजिटिव निकले हैं। इनके परिजनों ने पूछताछ में बताया कि ये सात फरवरी को तब्लीगी जमात की मरकज में हिस्सा लेने दिल्ली के निजामुद्दीन गए। इसके बाद जिले के सातों लोगों ने सोमालिया में होने वाली जमात के मरकज में हिस्सा लेने जाना था। कोरोना के कारण उड़ानें रद्द हो गईं। 19 मार्च तक निजामुद्दीन में रुके रहे। 20 मार्च को दिल्ली से ऊना होते हुए मंडी लौट रहे थे। लॉकडाउन के चलते ऊना जिले में रुकना पड़ा। 

उधर, वीरवार देर रात को प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने तीनों के घरों में दस्तक दी। जांच में परिवार के सदस्य स्वस्थ पाए गए। एहतियात के तौर पर स्वास्थ्य विभाग ने तीनों युवकों के परिवार के सदस्यों और किरायेदारों को होम क्वारंटाइन किया है। मरकज में गए तीनों युवकों की ट्रैवल हिस्ट्री और परिवार के साथ वहां जाने के बाद सीधे तौर पर संपर्क को लेकर विस्तार से जानकारी ली गई। 

उधर, डीसी ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि कोरोना पॉजिटिव तीनों मरीज दिल्ली से सीधे मंडी नहीं आए थे। 27 फरवरी को दिल्ली के निजामुद्दीन गए थे। 20 मार्च के आसपास वापस हिमाचल आना पाया जा रहा है। ऊना प्रशासन और परिजनों से मिली जानकारी के तहत ये दिल्ली से मंडी नहीं आए। न ही मंडी का कोई व्यक्ति इनके संपर्क में आया है। प्रशासन इनकी ट्रैवल हिस्ट्री की जांच है। 

दिल्ली से ऊना पहुंचने पर परिवार अनभिज्ञ
27 फरवरी को तब्लीगी जमात की मरकज में हिस्सा लेने के लिए तीनों कुछ अन्य लोगों के साथ दिल्ली गए थे। यहां से सोमालिया जाने का कार्यक्रम था। परिवार ने उनके दिल्ली से ऊना पहुंचने को लेकर जानकारी होने से मना किया है। एसपी मंडी गुरुदेव शर्मा ने कहा कि तीनों युवकों के कार्यक्रम के लिए सोमालिया जाने की बात परिजनों से पूछताछ में ही सामने आई है।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस: मस्जिद के इमाम और दो सहयोगियों पर मामला दर्ज

हिमाचल के बिलासपुर जिले के घुमारवीं जामा मस्जिद के इमाम और दो सहयोगियों पर कोरोना वायरस को लेकर झूठी जानकारी देने, प्रशासन और पुलिस के आदेशों की अवहेलना करने पर मामला दर्ज किया गया है। 31 मार्च को पुलिस को सूचना मिली थी कि ऊना के नकड़ोह स्थित मस्जिद में मंडी के सात लोग ठहरे थे। सूचना थी कि सातों लोग दिल्ली स्थित निजामुद्दीन मस्जिद के मरकज में शामिल हुए थे।

पुलिस को सूचना मिली कि सातों लोग घुमारवीं स्थित जामा मस्जिद में पहुंचे तथा 20 मार्च तक रुके। इसके आधार पर पुलिस थाना का प्रभार देख रहीं आईपीएस ऑफिसर सृष्टि पांडे ने जामा मस्जिद के इमाम मोहम्मद अयूब और सहयोगी अनीश अहमद से पूछताछ की। पुलिस तफ्तीश में पता चला कि ये 7 लोग घुमारवीं की जामा मस्जिद में नहीं ठहरे थे। मामले के तीनों आरोपियों ने पुलिस को गुमराह करने की नियत से झूठी सूचना उपलब्ध करवाई। 

पुलिस तफ्तीश में आया कि तीनों लोगों ने जानबूझकर झूठे तथ्य गुमराह करने की नियत से पुलिस के समक्ष पेश किए तथा प्रशासन की ओर से जारी किए गए आदेशों की उल्लंघना की। घुमारवीं पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 188, 177, 182 व 120 बी के तहत आपराधिक मामला दर्ज किया है। डीएसपी राजेंद्र कुमार जसवाल ने मामले की पुष्टि की है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us