आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Kavya Charcha ›   Gorakh pandey famous bhojpuri poem maina
राजा-राजकुमार और शिकार हुई 'मैना' की काव्यात्मक कहानी रोंगटे खड़े कर देती है...

काव्य चर्चा

राजा-राजकुमार और शिकार हुई 'मैना' की काव्यात्मक कहानी रोंगटे खड़े कर देती है...

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

2253 Views
एक दिन राजा मरले आसमान में ऊड़त मैना
बान्हि के घरे ले अइले मैना ना

अनुवाद: एक दिन राजा आखेट पर गए और आसमान में उड़ती हुई मैना को मारा और मैना को बांधकर घर ले आए। 

एकरे पिछले जनम के करम
कइलीं हम सिकार के धरम
राजा कहें कुँवर से अब तू लेके खेलऽ मैना
देखऽ कतना सुंदर मैना ना

अनुवाद: इसके पिछले जन्म के कर्म के आधार पर मैंने इसका शिकार किया। फिर राजा ने अपने बेटे राजकुमार से कहा- हे कुंवर अब तुम इस मैना से खेलो, देखो कितना सुंदर है।  आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!