विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

हिमाचल प्रदेश

बुधवार, 16 अक्टूबर 2019

17 आईएफएस अधिकारियों को पदोन्नति, 6 एपीसीसीएफ और 11 सीसीएफ बने

प्रदेश सरकार ने 17 आईएफएस अधिकारियों के पदोन्नति आदेश जारी कर दिए हैं। आदेश के तहत 1989 व 1993 बैच के छह मुख्य वन संरक्षकों (सीसीएफ) को अतिरिक्त प्रधान मुख्य संरक्षक (एपीसीसीएफ) पद पर पदोन्नति दी गई है। इनमें से केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर चल रहे एक अधिकारी को प्रोफार्मा आधार पर पदोन्नति दी गई है। पदोन्नत होने वालों में पवनेश कुमार, राजेश जे इक्का, एचके गुप्ता, मनोज भैक, अमिताभ गौतम और संजय सूद शामिल हैं।

इसके अलावा 1996 से 1999 बैच के 11 वन संरक्षकों (सीएफ) को मुख्य वन संरक्षक (सीसीएफ) पद पर पदोन्नति दी गई है जिनमें तीन को प्रोफार्मा आधार पर पदोन्नति मिली है। पदोन्नति पाने वालों में प्रदीप ठाकुर, हर्ष वर्धन, एसके मसाफिर, जीसी होसुर, बीएस राणा, कुणाल सत्यार्थी, एसडी शर्मा, उपासना पटियाल, पुष्पेंद्र राणा, आरएस पटियाल और एसएस कटैक शामिल हैं। वहीं, एक अधिकारी के तबादला आदेश में संशोधन कर नए आदेश जारी किए हैं। नए आदेश के तहत सहायक वन संरक्षक पवन कुमार को सहायक वन संरक्षक फ्लाइंग स्कवाएड डिवीजन में लगाया गया है।

चार वित्त अधिकारी पदोन्नत
प्रदेश सरकार ने शिक्षा बोर्ड में स्थानीय ऑडिट स्कीम के उप नियंत्रक अशोक सूद और स्थानीय लेखा विभाग के उप निदेशक हेमराज भारद्वाज को संयुक्त नियंत्रक व संयुक्त निदेशक पद पर पदोन्नति दी है। पदोन्नति के बाद दोनों ही अधिकारी अपने पूर्व पदों पर पदोन्नति के बाद भी तैनात रहेंगे।

वहीं, दो सहायक नियंत्रकों मोहिंदर कुमार और अनिल कुमार को पदोन्नति देते हुए उप नियंत्रक बनाया गया है। मोहिंदर कुमार को क्लस्टर यूनिवर्सिटी मंडी के अकाउंट्स का ऑडिट करने और अनिल कुमार को नौणी विश्वविद्यालय की स्थानीय लेखा स्कीम में नियुक्ति दी गई है। प्रदेश सरकार ने चारों ही अधिकारियों की पदोन्नति के आदेश जारी कर दिए हैं।
... और पढ़ें

कसौली गोलीकांड: एक दर्जन पुलिस कर्मचारियों को रिटायर करने की तैयारी

बहुचर्चित कसौली गोलीकांड में एक दर्जन पुलिस कर्मियों के खिलाफ लापरवाही के आरोपों की जांच पूरी हो गई है। जांच में सभी आरोप साबित हो गए हैं। अफसरों ने जांच रिपोर्ट के आधार पर पुलिस एक्ट के तहत सभी को रिटायर करने की सिफारिश की है। सभी को नोटिस देकर पूछा गया है कि क्यों न उन्हें रिटायर कर दिया जाए। डीजीपी सीताराम मरडी ने कहा कि इन सभी से अंतिम जवाब मांगा गया है। जवाब मिलने के बाद इस पर फैसला लिया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कसौली में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर अवैध निर्माण गिराने के दौरान बीते साल 1 मई को हुई गोलीबारी में एक महिला अफसर और लोक निर्माण विभाग के एक कर्मचारी की मौत हो गई थी। घटना के वक्त पुलिस भी मौजूद थी लेकिन आरोपी गोलियां दागकर पुलिस के सामने फरार हो गया था।

कुछ दिन बाद उसे गिरफ्तार तो किया गया जांच में पता चला कि गोलीकांड के बाद कानून व्यवस्था संभालने जाने के दौरान जरूरत के मुताबिक असलहा लेकर न जाना, महिला अधिकारी को गोली मारकर भागने वाले अपराधी के विरुद्ध असलहा इस्तेमाल न करना, महिला अधिकारी की सुरक्षा के लिए तैनात जवानों द्वारा लापरवाही की गई। यही नहीं, घर और नाके पर चेकिंग कर रहे पुलिस कर्मियों द्वारा भी लापरवाही बरती गई। इसकी वजह से आरोपी रात में जंगल से पहले घर आकर असलहा छिपा गया और फिर नाके पर बिना चेकिंग के ही प्रदेश से बाहर निकल गया।
... और पढ़ें

गाड़ियां बेचकर ठगी करने वाला 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

निजी कंपनियों में महंगी गाड़ियां लगवाने पर ठगी करने वाले गिरोह के सरगना विमल कालरा को कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। कालरा ही अपने गिरोह के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर लोगों को निशाना बनाता और उनके दस्तावेजों की मदद से गाड़ियां खरीदकर गायब हो जाता। विजिलेंस के सोलन थाना में दर्ज मामलों में अभी तक उसे आरोपी बनाया गया था।


अब शिमला की विजिलेंस इकाई भी अपने यहां दर्ज मामलों में उससे बतौर अभियुक्त पूछताछ के लिए कवायद कर रही है। विजिलेंस शिमला ने कोर्ट में उसकी कस्टडी हासिल करने के लिए आवेदन किया है। माना जा रहा है कि शिमला में दर्ज मामलों के अलावा उसके खिलाफ आई अन्य शिकायतों को लेकर उससे पूछताछ और बरामदगी की जाएगी। 

स्टेट विजिलेंस ब्यूरो ने बीते सप्ताह सोलन और शिमला में कई मामले दर्ज कर तीन लोगों को गिरफ्तार कर ठगी के एक बड़े गिरोह का खुलासा किया था। इन पर आरोप था कि ये ठगी का गिरोह गरीब लोगों को लोन पर गाड़ियां खरीद और बाद में गाड़ी और दस्तावेज लेकर फरार हो जाता था। पीड़ितों ने पहले पुलिस के पास शिकायत की लेकिन जब वहां सुनवाई नहीं हुई तो मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंच गए।

सीएम कार्यालय के निर्देश पर विजिलेंस ब्यूरो ने शिमला और सोलन में कई मामले दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी। अब तक की जांच में पता चला है कि गिरोह गरीबों के नाम पर खरीदीं गाड़ियों को अपना बताकर पंजाब और हरियाणा में बेचता था। यही नहीं नशा तस्कर व नकली नोट के गोरखधंधे में शामिल गिरोहों को भी इसके कई गाड़ियां बेची हैं। विजिलेंस की शिमला और सोलन की टीमों ने अब तक 6 गाड़ियां बरामद की हैं। 
... और पढ़ें

पति ने पत्नी और खुद पर पेट्रोल छिड़क कर लगाई आग, दोनों की मौत

घुमारवीं उपमंडल के तहत पड़ने वाली ग्राम पंचायत सेऊ के गांव भदरोग में दिल दहला देने वाली घटना में एक दंपती की जिंदा जलने से मौत हो गई। इस हादसे में उनकी गोद ली हुई आठ साल की बेटी घायल हो गई। वारदात से पहले पति ने पत्नी की पिटाई की। इसके बाद पेट्रोल डालकर पहले पत्नी और खुद को आग के हवाले कर दिया। 

पुलिस के अनुसार रामकृष्ण (43) ने आपसी झगड़े के चलते पहले पत्नी की हथोड़े से पिटाई की और उसके बाद पेट्रोल छिड़ककर खुद और पत्नी को आग के हवाले कर दिया। रामकृष्ण करीब दो महीने बाहर रहने के बाद घर आया था।

बुधवार सुबह जब पत्नी कांता दूध लेकर आई तो उसकी किसी बात को लेकर पति से कहासुनी हो गई। इस पर रामकृष्ण ने हथोड़े से कांता देवी के सिर पर वार कर दिया। इससे कांता के सिर पर चोट आई। इस बीच कांता ने गोद ली लड़की को धक्का देकर बाहर निकाल दिया। इससे वह घायल हो गई।
... और पढ़ें

कर्मचारी ने शराब की बोतल लेकर छात्राओं के साथ बनाया टिकटॉक वीडियो, निलंबित

सोशल मीडिया पर चल रहे टिकटॉक वीडियो का कॉलेज के एक कर्मचारी पर ऐसा नशा चढ़ा कि उसने कॉलेज में ही शराब की बोतल लेकर छात्राओं के हाथों में हाथ डालकर टिकटॉक वीडियो बना डाले।

वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होते ही कॉलेज प्रशासन ने उक्त कर्मचारी को निलंबित कर दिया। इसमें कुछ वीडियो कॉलेज के बाहर तो कुछ कॉलेज के अंदर बनाए दिख रहे हैं। कॉलेज प्राचार्य ने इसकी जांच के लिए पांच सदस्यीय कमेटी गठित कर दी है। कमेटी तीन दिन में रिपोर्ट देगी।

 जानकारी के अनुसार हिमाचल के कांगड़ा जिले के शहीद  कैप्टन विक्रम बतरा कॉलेज पालमपुर में सेल्फ फाइनांसिंग के तहत रखे एक कर्मचारी ने कॉलेज में शराब की बोतल लहराकर और कॉलेज की लड़कियों के हाथ में हाथ डालकर टिकटॉक वीडियो बनाए।

करीब एक दर्जन से अधिक बने टिकटॉक वीडियो में यह कर्मचारी छात्राओं के सामने नाच रहा है और एक लड़की का हाथ पकड़ कर गाना भी गा रहा है। साथ ही शराब की बोतल को हाथ में लेकर डॉयलाग बोल रहा है। जब ये वीडियो वायरल हुए तो कॉलेज प्रबंधन के हाथ भी लग गए।
... और पढ़ें

सेल्फी लेते नदी में गिरी दो पर्यटक युवतियां, एक लापता

धार्मिक नगरी मणिकर्ण में पार्वती नदी के किनारे सेल्फी ले रही दो पर्यटक युवतियां अचानक नदी में जा गिरी। इनमें से एक युवती पानी के बहाव के कारण बाहर निकल गई। लेकिन दूसरी लापता है। दोनों युवतियां नदी के किनारे एक पत्थर पर बैठी हुई थीं। इस दौरान अचानक पैर फिसलने से हादसा पेश आया।

पुलिस ने मामला दर्जकर लापता युवती की तलाश शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार बुधवार दोपहर को दोनों युवतियां पत्थर पर सेल्फी लेते समय पांव फिसलने से नदी में गिर गईं। दोनों युवतियां बुधवार सुबह ही दिल्ली से मणिकर्ण पहुंची थी।

हादसे में कोमल (24) पुत्री विमल राय निवासी सूबेदार बस्ती करसांग, जिला दार्जिलिंग बाहर निकल गई। उसकी सहेली प्रियंका जैन (26) पुत्री मुकेश जैन, निवासी गोवाहाटी, असम पार्वती नदी में बह गई। दोनों लड़कियों की दोस्ती बेंगलुरू में माउंट गर्ल्स कॉलेज में हुई थी।

दोनों मणिकर्ण घूमने के लिए आई थीं। इसके बाद पुलिस और स्थानीय लोग उसकी तलाश में जुट गए। करीब सौ मीटर तक उसे पानी में बहता देखा गया। लेकिन बाद में वह कहीं भी नजर नहीं आई। मणिकर्ण के साथ जरी पुलिस चौकी अब लापता लड़की की तलाश करने में जुटी है।
... और पढ़ें

धर्मशाला हिमाचल की दूसरी राजधानी है और रहेगी: अग्निहोत्री

हिमाचल प्रदेश की धर्मशाला दूसरी राजधानी है और हमेशा रहेगी। इसके लिए कांग्रेस सरकार ने अधिसूचना जारी की थी और इस पर अमल भी किया था। लेकिन, भाजपा सरकार ने सत्ता में आते ही इसे नकार दिया।

धर्मशाला में पत्रकार वार्ता के दौरान नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार धर्मशाला में दूसरी राजधानी होने की सारी सुविधाओं को नकार रही है।

धर्मशाला में शिमला की तर्ज पर नगर निगम है, विधानसभा परिसर है, सेंट्रल यूनिवर्सिटी के अलावा अन्य तमाम वह बुनियादी सुविधाएं मौजूद हैं, जोकि दूसरी राजधानी के लिए जरूरी हैं। बावजूद इसके प्रदेश सरकार धर्मशाला को दूसरी राजधानी नहीं मान रही है।
 
... और पढ़ें

दूसरी राजधानी को लेकर मुकेश अग्निहोत्री के बयान पर धूमल ने किया पलटवार, ये कहा

भाजपा के वरिष्ठ नेता शांता कुमार की ओर से दूसरी राजधानी को लेकर दिए गए बयान पर मचा बवाल थम नहीं रहा है। नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने बुधवार को शांता के बयान पर भाजपा को घेरा। जबकि, पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने धर्मशाला में प्रेस वार्ता कर कांग्रेस पर हमला कर पार्टी का बचाव किया। कुल मिलाकर दूसरी राजधानी के मुद्दे पर धर्मशाला में सियासी हंगामा बढ़ता जा रहा है। 

पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने दूसरी राजधानी के मुद्दे पर कांग्रेस पर तीखा हमला किया है। धर्मशाला में प्रेस वार्ता के दौरान धूमल ने कहा कि कागजों पर दूसरी राजधानी नहीं बनती। 2017 के विस चुनाव से पहले 10 पैसे के नॉन ज्यूडीशियल पेपर पर अधिसूचना निकालने से दूसरी राजधानी नहीं बन जाती है। दूसरी राजधानी के लिए व्यावहारिक रूप से मेहनत करनी पड़ती है।

अगर कांग्रेस दूसरी राजधानी को लेकर इतनी ही संजीदा थी तो इसके लिए उसने करोड़ों रुपये का बजट क्यों नहीं रखा।  भाजपा ने कागजों में नहीं बल्कि धरातल पर धर्मशाला का विकास किया है। मेेरे कार्यकाल में धर्मशाला में 2 सचिवालय बनाए गए। सचिवालय में कांगड़ा के 4 मंत्री बारी-बारी से बैठते थे। साई प्रशिक्षण केंद्र, सिंथेटिक ट्रैक खनियारा में फूड क्राफ्ट ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट सहित कई संस्थान मेरे कार्यकाल में खुले।
... और पढ़ें

उपचुनाव: कांग्रेस ने आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के पूरे सबूत चुनाव आयोग को सौंपे

हिमाचल कांग्रेस ने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर विकास के मामले में प्रदेश के लोगों को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन के वार रूम में पार्टी के प्रचार कार्यों की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के उस बयान पर भी हैरानी जताई गई, जिसमें उन्होंने कांग्रेस से चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन के सबूत मांगे हैं।

कांग्रेस चुनाव वार रूम से सभी ब्लॉक प्रमुख और बूथ प्रभारियों को निर्देश दिए हैं कि जिसे जो जिम्मेदारी सौंपी गई है, उस पर वह पूरी मुस्तैदी से डट जाएं।
प्रदेश कांग्रेस वार रूम प्रभारी और प्रदेश सचिव हरिकृष्ण हिमराल ने बुधवार को राजीव भवन में बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि भाजपा नेताओं के आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के पूरे सबूत चुनाव आयोग को दिए गए हैं। विधानसभा अध्यक्ष को तो आयोग ने नोटिस तक जारी किया है।

बावजूद इसके मुख्यमंत्री का जनसभा में आदर्श आचार संहिता के प्रमाण मांगना लोगों को इस बारे में गुमराह करना है। हिमराल ने कहा कि सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री जिस प्रकार आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के बाद सक्रिय हैं, उससे साफ  है कि उनको मुख्यमंत्री का पूरा संरक्षण है। प्रदेश में पहली बार किसी विधानसभा अध्यक्ष को चुनाव आयोग का कोई नोटिस गया हो। इस बैठक में चंद्रशेखर शर्मा, सेन राम नेगी, शशि बहल, सुनीता ठाकुर और कई अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे। 
... और पढ़ें

धोखाधड़ी के मामले में तीन साल कैद और 16 लाख जुर्माना, पढ़ें पूरी खबर

चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट नूरपुर नितिन मित्तल ने जनवरी 2004 को दर्ज धोखाधड़ी के एक मामले में दोषी को 16 लाख रुपये का जुर्माना व तीन साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई।

यह सजा कुलभूषण पुत्र हीरा सिंह निवासी भरोड़ी तहसील सांबा जिला जम्मू को शिकायतकर्ता रणजीत पठानिया निवासी थपकोर की शिकायत पर धारा 420 व 468 के तहत सुनाई गई है।

वहीं इस केस में दो आरोपी स्वामी सेवा लाल निवासी बंगलूरू व रविंद्र शर्मा निवासी हल्द्वानी उत्तराखंड अभी तक उद्घोषित अपराधी हैं, जिन्हें अभी तक नहीं पकड़ा जा सका है।

सहायक न्यायवादी आशुतोष परमार ने बताया कि आठ जनवरी, 2004 को थपकोर निवासी रंजीत पठानिया ने नूरपुर पुलिस थाना में केस दर्ज करवाया था कि बंगलूरू के एक मेडिकल संस्थान में दाखिला दिलाने के नाम पर 21 लाख की राशि ऐंठ ली थी।

जब शिकायतकर्ता ने संबंधित संस्थान से संपर्क किया तो पता चला कि लड़के के दाखिले के नाम पर उसके साथ धोखाधड़ी हुई है व संस्थान ने किसी प्रकार की एडमिशन नहीं दी है। लगभग 15 साल चले इस केस में  बुधवार को अदालत ने यह फैसला सुनाया है।
... और पढ़ें

मेरे बयान का कुछ मित्रों ने गलत अर्थ निकाला: शांता

पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार का कहना है कि कसौली में खुशवंत सिंह लिटफेस्ट पर उनके बयान का कुछ मित्रों ने गलत अर्थ निकाला है। उन्होंने यह कहा था कि हिमाचल में इतना महत्वपूर्ण कार्यक्रम हर साल होना अच्छी बात है।

भारत ही नहीं विश्व से भी कुछ बड़े साहित्यकार और बुद्धिजीवी इस कार्यक्रम में भाग लेते हैं। उन्होंने कार्यक्रम के आयोजक राहुल सिंह से यह विशेष आग्रह करने की बात कही थी कि इस प्रकार के विद्वान साहित्यकार और बुद्धिजीवियों के कार्यक्रम में केवल संवाद विचारों का आदान-प्रदान होना चाहिए।

उस संवाद में कुछ भी ऐसा न हो, जिस पर कोई विवाद खड़ा हो सके। उनके कहने का सीधा सा अर्थ था कि कार्यक्रम में राजनीतिक मुद्दे और धारा- 370 पर चर्चा नहीं होनी चाहिए।

बुद्धिजीवियों के कार्यक्रम में उन्होंने अपनी टिप्पणी राजनीतिक भाषा में नहीं की थी। इसी कारण सोलन के कुछ मित्रों को भ्रम हो गया, लेकिन अच्छा होता वे उन्हें फोन करके पूछ लेते।

जीवन के इस अंतिम मोड़ पर मुझे किसी से भी हिंदू होने का प्रमाण-पत्र लेने की जरूरत नहीं है। उन्हें खुशी है कि इन मित्रों ने क्रोध में आकर उनका पुतला भी फूंका। यह धारणा है कि जिसका पुतला फूंका जाता है उसकी आयु बढ़ जाती है। 
... और पढ़ें

बिजली बोर्ड के एमडी को हटाने की मांग पर अड़े कर्मचारी, दिया अल्टीमेटम

बिजली बोर्ड की कर्मचारी यूनियन ने प्रबंध निदेशक जेपी कालटा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। प्रबंध निदेशक को पद से हटाने की मांग पर अड़ी यूनियन ने सरकार को 22 अक्तूबर तक का अल्टीमेटम दिया है। मांग अनसुनी होने पर इसी दिन बोर्ड मुख्यालय कुमार हाउस परिसर में विरोध प्रदर्शन करने की चेतावनी दी है। 22 अक्तूबर को अगर यूनियन की विभिन्न मांगों को लेकर सरकार ने वार्ता के लिए नहीं बुलाया तो कुमार हाउस से लेकर सचिवालय तक प्रदर्शन किया जाएगा।

बुधवार को राजधानी शिमला में प्रेस वार्ता कर इंप्लाइज यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप खरवाड़ा ने पांच साल का निर्धारित सेवाकाल पूरा होने के बाद भी प्रबंध निदेशक की सेवाएं जारी रहने पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने बताया कि मई 2019 में जेपी कालटा की नियुक्ति के पांच साल पूरे हो चुके हैं। साल 2017 में इनकी 58 वर्ष की आयु पूरी हो चुकी है। ऐसे में बीते पांच महीने से किस आधार पर सरकार ने इन्हें प्रबंध निदेशक के पद पर नियुक्त किया हुआ है।


इसे लेकर स्थिति स्पष्ट होनी चाहिए। उन्होंने प्रबंध निदेशक पर भ्रष्टाचार करने वालों को संरक्षण देने का आरोप लगाया। अध्यक्ष खरवाड़ा ने कहा कि जिन अधिकारियों-कर्मचारियों ने भ्रष्टाचार किया है, उनके खिलाफ कार्रवाई करने की जगह प्रबंध निदेशक ने उन्हें पदोन्नति दी है। एमडी की विफलता के चलते फील्ड कर्मचारियों के साथ दुर्घटनाओं के मामले बढ़े हैं। ऊहल परियोजना आज तक शुरू नहीं हो सकी है। नई भर्तियों की फाइल बंद हो गई है। उन्होंने कहा कि अब प्रबंध निदेशक के साथ यूनियन बैठक नहीं करेगी। बोर्ड के चेयरमैन प्रबोध सक्सेना से ही बातचीत की जाएगी। अगर सरकार ने मांगों को पूरा नहीं किया तो पूरे प्रदेश में प्रदर्शन किए जाएंगे।


एमडी आफिस बना तबादला गिरोह का अड्डा
इंप्लाइज यूनियन के अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि एमडी का आफिस तबादला गिरोह का अड्डा बन गया है। भारतीय मजदूर संघ से जुड़ा एक सेवानिवृत्त कर्मी एमडी के दफ्तर में बैठकर मुख्यमंत्री की धौंस दिखाकर मनमाने तरीके से कर्मचारियों के तबादले करवाता है। उन्होंने मुख्यमंत्री से इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग भी की।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
विज्ञापन