विज्ञापन
विज्ञापन
कैसे मिलेगा नए साल में सभी परेशानियों से निवारण ? फ्री जन्मकुंडली बनवाएं और जानें !
Kundali

कैसे मिलेगा नए साल में सभी परेशानियों से निवारण ? फ्री जन्मकुंडली बनवाएं और जानें !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

किसान मोर्चा का फैसला- अब किसी भी राजनीतिक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे गुरनाम सिंह चढ़ूनी

किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी अब किसी भी राजनीतिक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे। यह फैसला सोमवार शाम को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में लिया गया। साथ ही मोर्चा ने चढ़ूनी को अपना हिस्सा बताया और कहा कि वे पहले की तरह मोर्चे के हर कार्यक्रम में शामिल होंगे। यहां तक की सरकार और किसानों के बीच होने वाली वार्ता में भी जाएंगे।

इससे पहले कुंडली बॉर्डर पर किसान नेताओं की सियासत गरमाई रही। भाकियू हरियाणा प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी के रविवार को राजनीतिक दलों की बैठक में शामिल होने के बाद से शुरू हुई सियासत में सोमवार शाम तक खींचतान चलती रही। गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने सोमवार सुबह किसान मोर्चा के सदस्य शिवकुमार कक्का पर आरोप लगाते हुए सवाल उठाए।

इसके बाद कक्का ने चढ़ूनी को लेकर किसी तरह की टिप्पणी नहीं करने की बात कही। साथ ही कुछ लोगों पर किसान आंदोलन को तोड़ने की साजिश रचने का आरोप लगाते हुए कार्रवाई कराने की बात कही। यह बात सुन चढ़ूनी के सुर भी बदल गए। वह भी कुछ लोगों पर किसान आंदोलन को तोड़ने के लिए आपसी फूट डालने का प्रयास करने का आरोप लगाने लगे। 
... और पढ़ें
किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी। किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी।

पीएमएफबीवाई की तर्ज पर हरियाणा में शुरू होगी मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना, 20 फसलें होंगी शामिल

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) की तर्ज पर अब हरियाणा में मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना की शुरुआत होगी। उद्यान विभाग की ओर से इसका पूरा खाका तैयार कर लिया गया है और जल्द ही सीएम मनोहर लाल इसकी शुरुआत करेंगे। खास बात ये है कि योजना के लिए प्रारंभिक पूंजी के रूप में दस करोड़ रुपये की व्यवस्था की जाएगी। 

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत भी बागवानी फसलों को कवर किया जाता है लेकिन इसमें प्रति एकड़ आश्वस्त राशि का पांच प्रतिशत प्रीमियम जमा कराना पड़ता है। मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना के तहत यह राशि 2.5 प्रतिशत होगी। इससे प्रदेश के किसानों को इस योजना में शामिल होने के लिए कम राशि जमा करानी होगी। 

20 फसलें शामिल 
बीमा योजना के तहत बागवानी की कुल 20 फसलों को शामिल किया गया है। इसमें 14 सब्जियों की फसलें, दो मसाला फसलें और चार फलों की फसलें शामिल हैं। इनमें टमाटमर, प्याज, आलू, फूलगोभी, मटर, गाजर, भिंडी, घीया, करेला, बैंगन, हरी मिर्च, पत्तागोभी और मूली हैं। मसाला फसलों में हल्दी और लहसून जबकि फलों में आम, किन्नू, बेर और अमरूद को शामिल किया गया है। 
... और पढ़ें

हरियाणा : निर्मला सीतारमण के साथ मनोहर लाल की बैठक, केंद्र से सीएम ने मांगे पांच हजार करोड़

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने केंद्र सरकार से केंद्रीय बजट 2021-22 में हरियाणा को विभिन्न परियोजनाओं के लिए पांच हजार करोड़ दिए जाने की मांग की है। मुख्यमंत्री ने यह मांग सोमवार को दिल्ली में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से हुई बजट पूर्व बैठक में हिस्सा लेने के दौरान उठाई।

बैठक में मुख्यमंत्री ने केंद्रीय वित्त मंत्री को हरियाणा की विभिन्न महत्वपूर्ण परियोजनाओं के लिए वित्तीय आवश्यकताओं के बारे में अवगत करवाया। बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में मनोहर लाल ने कहा कि लघु सिंचाई परियोजनाओं और तालाबों के जीर्णोद्धार के लिए केंद्रीय बजट 2021-22 में हरियाणा को 1000 करोड़ और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के विकास के लिए 1000 करोड़ की रकम प्रदान करने की मांग की। इसके अलावा ग्रामीण विकास, कोविड-19 प्रबंधन, स्वास्थ्य व आधारभूत मेडिकल सुविधाओं के लिए 3000 करोड़ रुपये की मांग की। 

बजट पूर्व बैठक में हरियाणा वित्त विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव टीवीएसएन प्रसाद और वित्त विभाग के अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री ने बताया कि हरियाणा में करीब दो हजार करोड़ का खर्च कोविड के दौरान हो चुका है। इस खर्च के लिए प्रदेश तैयार नहीं था लेकिन यह खर्च करना भी जरूरी था। हम तालाबों के जीर्णोद्धार पर भी काम कर रहे हैं। जिसके लिए बड़ी रकम की जरूरत है। इन्हीं सब आवश्यकताओं पर केंद्रीय नेताओं से बातचीत हुई है। उम्मीद है हरियाणा को बजट में बड़ी राहत मिलेगी, जिससे प्रदेश की रुकी हुईं विकास परियोजनाएं गति पकड़ेंगी।
... और पढ़ें

हरियाणा : कोरोना से चार की मौत, 119 पॉजिटिव मिले, सोमवार को 11457 लोगों को लगा टीका

हरियाणा में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार कम होते जा रहे हैं। साथ ही मृत्यु का आंकड़ा भी कम हो रहा है। सोमवार को प्रदेश में कोरोना से चार मरीजों की मौत हो गई, जबकि संक्रमण के 199 नए केस सामने आए हैं। राहत की बात यह है कि एक ही दिन में 280 लोगों को ठीक होने पर अस्पतालों से डिस्चार्ज किया गया। इस समय रिकवरी 98.15 और मृत्यु दर 1.12 प्रतिशत है। 

सोमवार को कुरुक्षेत्र, पंचकूला, हिसार और यमुनानगर में एक मरीज की मौत हो गई। इसी के साथ गुरुग्राम में 32 और फरीदाबाद में 21 नए मामले सामने आए हैं, जबकि अन्य सभी जिलों में संक्रमण के केस 15 से भी नीचे हैं। चरखी दादरी, नूंह, कैथल, पलवल, झज्जर में एक भी केस नहीं मिला है।

11457 लोगों को लगाई कोरोना वैक्सीन
सोमवार को प्रदेश में दूसरे दिन 182 स्थानों पर 11457 लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाई है। हालांकि विभाग का टारगेट 188007 लोगों का था। स्वास्थ्य विभाग की ओर से लिस्ट में अंबाला में 400, भिवानी में 232, चरखी दादरी में 50, फरीदाबाद में 1362, फतेहाबाद में 271, गुरुग्राम में 2881, हिसार में 1364, झज्जर में 137, जींद में 88, कैथल में 254, करनाल में 400, कुरुक्षेत्र में 81, महेंद्रगढ़ में 624, मेवात में 961, पलवल में 270, पंचकूला में 16, पानीपत में 130, रेवाड़ी में 293, रोहतक में 122, सोनीपत में 1156 और यमुनानगर में 366 लोगों को दवा लगाई गई। सिरसा जिले में टीकाकरण का आंकड़ा शून्य रहा।

प्रत्येक हरियाणावासी को मुफ्त मिले कोरोना वैक्सीन : कुमारी सैलजा
हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने हरियाणा सरकार से प्रदेश वासियों को कोरोना वैक्सीन मुफ्त देने की मांग की है। कुमारी सैलजा ने कहा कि वैक्सीन पर आने वाला पूरा खर्च केंद्र की सरकार वहन करे। हरियाणा सरकार यह भी सुनिश्चित करे कि प्रदेश के प्रत्येक नागरिक को जल्द से जल्द सबसे सुरक्षित कोरोना वैक्सीन मिले। हरियाणा सरकार इन सबके लिए केंद्र सरकार पर दबाव बनाए।

कुमारी सैलजा ने कहा कि अभी हाल ही में हुए बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अपने चुनावी घोषणापत्र में बिहार के सभी लोगों को मुफ्त कोरोना वैक्सीन देने का वादा किया था। इसके साथ ही अन्य राज्य सरकारों ने भी अपने नागरिकों के लिए मुफ्त वैक्सीन प्रदान करने की घोषणा की है। अगर अन्य स्थानों पर मुफ्त कोरोना वैक्सीन दी जा सकती है तो यह हरियाणा में भी मुमकिन है।
... और पढ़ें

फेसबुक पर हुआ प्यार, गोवा से पानीपत पहुंची किशोरी, अब प्रेमी पर लगाया दुष्कर्म का आरोप

कोरोना वैक्सीन
गोवा की रहने वाली 16 साल की किशोरी पानीपत की एक कॉलोनी निवासी 17 वर्षीय किशोर के प्रेम में पड़ने के बाद 15 जनवरी को पणजी से जहाज में दिल्ली आई और फिर बस से पानीपत प्रेमी से मिलने पहुंच गई। वह उसको लेने बस स्टैंड पर आया। किशोरी का आरोप है कि प्रेमी ने बस स्टैंड के सामने फ्लाईओवर के नीचे एक टैक्सी में दुष्कर्म किया। इसके बाद वह किशोर के घर चली गई। लड़के की मां ने गोवा में किशोरी के परिजनों को फोन कर इसकी सूचना दी। इस पर गोवा पुलिस रविवार को पानीपत पहुंच गई और किशोरी का मेडिकल कराने के बाद आरोपी नाबालिग किशोर को हिरासत में ले लिया।

पुलिस के मुताबिक गोवा की रहने वाली 11 वीं कक्षा की छात्रा की दोस्ती पानीपत की एक कॉलोनी के किशोर के साथ फेसबुक पर हुई थी। डेढ़ साल से दोनों के बीच प्रेम प्रसंग चल रहा था। शुक्रवार सुबह किशोरी ने अपने घर से पैसे निकाले और गोवा से फ्लाइट में दिल्ली पहुंच गई। फ्लाइट में बैठने से पहले ही किशोरी ने इसके बारे में अपने प्रेमी को बता दिया था।

दोपहर को वह दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंची और इसके बाद बस से पानीपत आ गई। यहां पर प्रेमी ने उसको रिसीव किया। दोनों रात को बस स्टैंड के सामने टैक्सी स्टैंड पर गए। यहां दोनों एक टैक्सी में बैठ गए। टैक्सी चालक बाहर खड़ा हो गया। आरोप है कि यहां पर प्रेमी ने किशोरी के साथ दुष्कर्म किया। रात को ही प्रेमी किशोरी को अपने साथ घर ले गया। यहां पर प्रेमी की मां ने लड़की के बारे में पूछा और उससे उसके परिजनों का फोन नंबर लेकर कॉल कर बताया कि उनकी लड़की उनके पास है। 

किशोरी की मां ने गोवा पुलिस को इसकी सूचना दी। रविवार को गोवा पुलिस किशोरी की मां व भाई के साथ फ्लाइट से दिल्ली पहुंची। पुलिस ने दोनों को बरामद कर लिया और सिविल अस्पताल में दोनों का मेडिकल कराया। गोवा पुलिस दोनों को अपने से साथ लेकर चली गई है। पानीपत पुलिस ने इस मामले की जानकारी होने से इंकार किया है, न ही इस मामले में कोई रिपोर्ट ही दर्ज है।
... और पढ़ें

आज महिला किसान दिवस मनाएंगे अन्नदाता, 23 को देशभर में राजभवनों पर डालेंगे डेरा

कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार के साथ लगातार वार्ता विफल होने और सुप्रीम फैसले से आहत किसानों ने अब आंदोलन को चरणबद्ध तरीके से बांट दिया है। 26 जनवरी को ट्रैक्टर मार्च से पहले किसान यूनियनों ने 18 जनवरी को महिलाओं को एकजुट करने के लिए महिला किसान दिवस और 23 जनवरी को देशभर में राजभवनों के बाहर डेरा डालने का निर्णय किया है। साथ ही ट्रैक्टर मार्च को सफल बनाने के लिए पंजाब सहित अन्य राज्यों में जनसंपर्क अभियान जारी कर दिया है।

किसान यूनियनों का मानना है कि उन्हें अंदेशा था कि केंद्र सरकार कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए अड़ियल रवैया अपनाएगी। इसी कारण वह पहले से ही आंदोलन को विस्तारित करने में लगे हुए हैं। पंजाब सहित देश के अन्य राज्य हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल के किसानों को अब तक आंदोलन से जोड़ चुके हैं।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से निराश किसान यूनियनों ने आंदोलन से महिलाओं को जोड़ने के लिए 18 जनवरी को किसान महिला दिवस के रूप में मनाने का निर्णय किया है। इसके पांच दिन बाद 23 जनवरी को आंदोलन के तहत राज्यों के राजभवनों के बाहर किसान डेरा डालेंगे। फिर 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर परेड निकालने की घोषणा की है। इस ट्रैक्टर मार्च को सफल बनाने के लिए किसान यूनियनें स्थानीय स्तर पर बैठक कर लोगों का समर्थन जुटा रही हैं।
... और पढ़ें

चंडीगढ़ के एक सोफे में क्या है खास, जो विदेश में 32 लाख में बिका, क्यों यहां के फर्नीचर की दुनिया दीवानी

तीन छात्राओं ने शिक्षक पर लगाया छेड़खानी का आरोप, बोलीं- व्हाट्सएप पर भेजता है मैसेज

अंबाला के एक पीजी कॉलेज में एक ही क्लास की तीन छात्राओं ने शिक्षक पर गलत ढंग से छूने और व्हाट्सएप पर मैसेज भेजकर दिल की बात कहने और अतिरिक्त कक्षा लगाने के बहाने बुलाने के आरोप लगाए हैं। पांच दिन पहले छात्राओं ने इसकी शिकायत की थी। कॉलेज प्रिंसिपल ने मामले की जांच के लिए चार सदस्यीय आंतरिक जांच कमेटी का गठन कर दिया है। 

अभी इस समिति ने अपनी जांच रिपोर्ट सौंपी भी नहीं थी कि आरोपी शिक्षक ने कॉलेज की जांच कमेटी के खिलाफ ही थाने में शिकायत दे दी। आरोप लगाए कि जांच कमेटी के एक सदस्य ने मेरा गला पकड़ा, गाली-गलौज करते हुए जातिसूचक शब्द भी कहे। इस तरह यह मामला छावनी के सदर थाने पहुंच गया। 

शिकायत के बाद कॉलेज जांच कमेटी के चारों सदस्यों को शनिवार को थाने बुलाया। यहां तीन घंटे पूछताछ चली। पूछताछ में जांच कमेटी के सदस्यों ने बताया कि आरोप लगाने वाले शिक्षक के खिलाफ हम छेड़खानी मामले में जांच कर रहे हैं। साथ ही जांच कमेटी ने छात्राओं की शिकायत भी थाने में सौंप दी है। इस मामले में कॉलेज प्रिंसिपल का पक्ष जानना चाहा तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। वहीं, आरोपी शिक्षक ने भी न फोन उठाया न ही कॉलेज पहुंचा है।

कॉलेज की बनाई आंतरिक जांच कमेटी
इस मामले की जांच के लिए प्रिंसिपल ने कॉलेज की आंतरिक जांच कमेटी का गठन किया। इसमें इंचार्ज अंजू जगपाल, डॉ. अतुल यादव, बलजिंद्र कौर और मनीष कुमार शामिल हैं। इसके अलावा मास कम्यूनिकेशन विभाग के अध्यक्ष राकेश शर्मा को विशेष तौर पर बुलाया गया।
यह कॉलेज का आंतरिक मामला है। इसमें प्रिंसिपल ही सही जानकारी दे पाएंगे। हमें जांच करने की जिम्मेदारी दी थी। हमने उनको अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। - अंजू जगपाल, इंचार्ज कॉलेज आंतरिक जांच कमेटी।
हमने सभी को थाने बुलाया था। जांच कमेटी ने बताया कि आरोपी शिक्षक के खिलाफ छात्राओं ने छेड़खानी की शिकायत दी थी, हम उसकी जांच कर रहे हैं। तफ्तीश के बाद ही इस मामले में आगामी कार्रवाई की जाएगी। - विजय कुमार, इंस्पेक्टर कैंट थाना।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X