#कबतकनिर्भयाः कानून का डर तो ठीक है लेकिन समाज की मानसिकता बदलना भी जरूरी

Shankar Suwan Singhशंकर सुवन सिंह सिंह Updated Mon, 02 Dec 2019 02:02 PM IST
विज्ञापन
हैदराबाद की घटना समाज की मानसिकता दर्शाती है।
हैदराबाद की घटना समाज की मानसिकता दर्शाती है। - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
सत्य, अहिंसा विरोधी रथ पर सवार हो सत्ता के चरम शिखर पर पहुंचने वाले सुधारकों की मनोदशा ठीक नहीं है। सुधारकों की प्रवृत्ति ठीक होती तो देश में सत्य,अहिंसा का प्रवाह होता। 
विज्ञापन

27 नवंबर 2019 को हैदराबाद के बाहरी इलाके शमसाबाद में 26 वर्षीय महिला डॉक्टर के साथ सामूहिक बलात्कार हुआ। फिर उनके शरीर को पेट्रोल डालकर जला दिया गया। जली हुई लाश मिलने से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। वारदात की सूचना मिलते ही जहां पुलिस सक्रिय रूप से मामले की जांच में जुट गई, तो वहीं दूसरी ओर सोशल मीडिया यूजर्स भी पशु चिकित्सक के लिए न्याय की गुहार लगा रहे हैं। यह घटना समाज के बदलते स्वरूप, नेताओं के कोरे वादे,और इंसानियत के साथ खिलवाड़ का विभत्स रूप दर्शाती है। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us