विज्ञापन
विज्ञापन
कैसे मिलेगा नए साल में सभी परेशानियों से निवारण ? फ्री जन्मकुंडली बनवाएं और जानें !
Kundali

कैसे मिलेगा नए साल में सभी परेशानियों से निवारण ? फ्री जन्मकुंडली बनवाएं और जानें !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

कौन हैं जोगिंदर सिंह उगराहां, जिन्होंने संभाली पंजाब के सबसे बड़े किसान संगठन की बागडोर

कृषि कानूनों के विरोध में पंजाब-हरियाणा के किसान दिल्ली के बार्डर पर डटे हुए हैं। पंजाब का सबसे बड़ा किसान संगठन भारतीय किसान यूनियन उगराहां भी कंधे स...

30 नवंबर 2020

विज्ञापन
Digital Edition

किसान मोर्चा का फैसला- अब किसी भी राजनीतिक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे गुरनाम सिंह चढ़ूनी

किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी अब किसी भी राजनीतिक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे। यह फैसला सोमवार शाम को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में लिया गया। साथ ही मोर्चा ने चढ़ूनी को अपना हिस्सा बताया और कहा कि वे पहले की तरह मोर्चे के हर कार्यक्रम में शामिल होंगे। यहां तक की सरकार और किसानों के बीच होने वाली वार्ता में भी जाएंगे।

इससे पहले कुंडली बॉर्डर पर किसान नेताओं की सियासत गरमाई रही। भाकियू हरियाणा प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी के रविवार को राजनीतिक दलों की बैठक में शामिल होने के बाद से शुरू हुई सियासत में सोमवार शाम तक खींचतान चलती रही। गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने सोमवार सुबह किसान मोर्चा के सदस्य शिवकुमार कक्का पर आरोप लगाते हुए सवाल उठाए।

इसके बाद कक्का ने चढ़ूनी को लेकर किसी तरह की टिप्पणी नहीं करने की बात कही। साथ ही कुछ लोगों पर किसान आंदोलन को तोड़ने की साजिश रचने का आरोप लगाते हुए कार्रवाई कराने की बात कही। यह बात सुन चढ़ूनी के सुर भी बदल गए। वह भी कुछ लोगों पर किसान आंदोलन को तोड़ने के लिए आपसी फूट डालने का प्रयास करने का आरोप लगाने लगे। 
... और पढ़ें
किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी। किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी।

पीएमएफबीवाई की तर्ज पर हरियाणा में शुरू होगी मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना, 20 फसलें होंगी शामिल

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) की तर्ज पर अब हरियाणा में मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना की शुरुआत होगी। उद्यान विभाग की ओर से इसका पूरा खाका तैयार कर लिया गया है और जल्द ही सीएम मनोहर लाल इसकी शुरुआत करेंगे। खास बात ये है कि योजना के लिए प्रारंभिक पूंजी के रूप में दस करोड़ रुपये की व्यवस्था की जाएगी। 

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत भी बागवानी फसलों को कवर किया जाता है लेकिन इसमें प्रति एकड़ आश्वस्त राशि का पांच प्रतिशत प्रीमियम जमा कराना पड़ता है। मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना के तहत यह राशि 2.5 प्रतिशत होगी। इससे प्रदेश के किसानों को इस योजना में शामिल होने के लिए कम राशि जमा करानी होगी। 

20 फसलें शामिल 
बीमा योजना के तहत बागवानी की कुल 20 फसलों को शामिल किया गया है। इसमें 14 सब्जियों की फसलें, दो मसाला फसलें और चार फलों की फसलें शामिल हैं। इनमें टमाटमर, प्याज, आलू, फूलगोभी, मटर, गाजर, भिंडी, घीया, करेला, बैंगन, हरी मिर्च, पत्तागोभी और मूली हैं। मसाला फसलों में हल्दी और लहसून जबकि फलों में आम, किन्नू, बेर और अमरूद को शामिल किया गया है। 
... और पढ़ें

कोटकपूरा गोलीकांड मामले में पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी के खिलाफ चालान पेश

विशेष जांच दल (एसआईटी) ने सोमवार को कोटकपूरा गोलीकांड मामले में भी तत्कालीन पंजाब के डीजीपी सुमेध सिंह सैनी के खिलाफ अदालत में चालान पेश कर दिया। इसके बाद जेएमआईसी एकता उप्पल की अदालत ने सैनी को नोटिस जारी करते हुए 18 फरवरी को पेश होने का आदेश दिया है। 

तीन दिन पहले ही एसआईटी ने पूर्व डीजीपी के खिलाफ बहिबल कलां गोलीकांड मामले में चार्जशीट दाखिल की थी। दोनों मामलों में एसआईटी ने उन्हें पिछले साल अक्तूबर में बतौर आरोपी नामजद किया था। एसआईटी ने पूर्व डीजीपी पर गोलीकांड की साजिश में शामिल होने के आरोप लगाए है।

बहिबल कलां व कोटकपूरा गोलीकांड की घटनाएं 14 अक्टूबर 2015 को हुई थीं। बहिबल कलां में पुलिस की गोली लगने से दो नौजवानों की मौत हुई थी। कोटकपूरा में पुलिस के लाठीचार्ज व फायरिंग में कई लोग घायल हो गए थे। 

साल 2018 में जस्टिस रणजीत सिंह आयोग की रिपोर्ट के बाद कोटकपूरा की घटना के संदर्भ में थाना सिटी कोटकपूरा में सात अगस्त 2018 को अज्ञात पुलिसकर्मियों पर इरादा-ए-कत्ल का केस दर्ज किया गया था।
... और पढ़ें

एनआईए के नोटिस पर कैप्टन अमरिंदर सिंह बोले- क्या यह किसान अलगाववादी और आतंकवादी लगते हैं

किसान नेताओं और उनके समर्थकों को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के नोटिस जारी करने की निंदा करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सोमवार को कहा कि डराने-धमकाने वाले ऐसे हथकंडे अपने हकों की लड़ाई लड़ने वालों को कमजोर नहीं कर सकते। मुख्यमंत्री ने पूछा कि 'क्या यह किसान अलगाववादी और आतंकवादी लगते हैं।'

उन्होंने केंद्र को आगाह करते हुए कहा कि ऐसे ओछे तरीके किसानों को कमजोर करने के बजाय उनको अपना रुख और सख्त करने पर मजबूर करेंगे। अगर स्थिति हाथ से बाहर निकल गई तो इस पर काबू पाने के लिए भाजपा के सबसे शक्तिशाली नेता भी कुछ नहीं कर सकेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि कानूनों से पैदा संकट को हल करने के बजाय केंद्र सरकार आंदोलनकारी किसानों और उनके समर्थकों को परेशान करने की कोशिश कर रही है। यह जाहिर है कि केंद्र सरकार को न तो किसानों की चिंता है और न ही उनकी मानसिकता की समझ है। पंजाबी स्वभाव से ही जुझारू होते हैं और उनकी जूझने की भावना उनको दुनिया में सर्वोत्तम योद्धा बनाती है। 

एक महीना पहले पंजाब के कई आढ़तियों को आयकर का नोटिस भेजे जाने और अब एनआईए की तरफ से किसानों को नोटिस भेजे जाने का हवाला देते हुए कैप्टन ने कहा कि यह हरकतें आंदोलन वापस लेने के लिए दबाव डालने के लिए की जा रही हैं। यदि केंद्र सरकार को कोई शर्म है तो वह तुरंत ही कृषि कानूनों को वापस ले।

किसानों को धमकाना मोदी सरकार का निंदनीय कार्य : भगवंत मान
आम आदमी पार्टी ने भी किसानों और उनकी सहायता करने वाले लोगों और संगठनों को भेजे जा रहे एनआईए के नोटिस के लिए मोदी सरकार की आलोचना की है। आप पंजाब अध्यक्ष और सांसद भगवंत मान ने कहा कि किसान आंदोलन को कुचलने के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग करना निंदनीय है।

मान ने कहा कि किसानों और कृषि को बचाने के लिए आंदोलन का समर्थन करने वाली विभिन्न सेवा समितियों, संगठनों को नोटिस भेजना अत्यंत घृणित काम है, जो अभी मोदी सरकार कर रही है। पहले मोदी सरकार के मंत्री और भाजपा नेताओं ने किसानों को पाकिस्तान और चीन का एजेंट, खालिस्तानी व आतंकवादी कहकर आंदोलन की छवि धूमिल करने की कोशिश की और अब आंदोलन को दबाने के लिए सरकारी एजेंसियों के माध्यम से आंदोलन को सहयोग करने वाले लोगों को नोटिस भेज रही है। 
... और पढ़ें

हरियाणा : कोरोना से चार की मौत, 119 पॉजिटिव मिले, सोमवार को 11457 लोगों को लगा टीका

कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो)
हरियाणा में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार कम होते जा रहे हैं। साथ ही मृत्यु का आंकड़ा भी कम हो रहा है। सोमवार को प्रदेश में कोरोना से चार मरीजों की मौत हो गई, जबकि संक्रमण के 199 नए केस सामने आए हैं। राहत की बात यह है कि एक ही दिन में 280 लोगों को ठीक होने पर अस्पतालों से डिस्चार्ज किया गया। इस समय रिकवरी 98.15 और मृत्यु दर 1.12 प्रतिशत है। 

सोमवार को कुरुक्षेत्र, पंचकूला, हिसार और यमुनानगर में एक मरीज की मौत हो गई। इसी के साथ गुरुग्राम में 32 और फरीदाबाद में 21 नए मामले सामने आए हैं, जबकि अन्य सभी जिलों में संक्रमण के केस 15 से भी नीचे हैं। चरखी दादरी, नूंह, कैथल, पलवल, झज्जर में एक भी केस नहीं मिला है।

11457 लोगों को लगाई कोरोना वैक्सीन
सोमवार को प्रदेश में दूसरे दिन 182 स्थानों पर 11457 लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाई है। हालांकि विभाग का टारगेट 188007 लोगों का था। स्वास्थ्य विभाग की ओर से लिस्ट में अंबाला में 400, भिवानी में 232, चरखी दादरी में 50, फरीदाबाद में 1362, फतेहाबाद में 271, गुरुग्राम में 2881, हिसार में 1364, झज्जर में 137, जींद में 88, कैथल में 254, करनाल में 400, कुरुक्षेत्र में 81, महेंद्रगढ़ में 624, मेवात में 961, पलवल में 270, पंचकूला में 16, पानीपत में 130, रेवाड़ी में 293, रोहतक में 122, सोनीपत में 1156 और यमुनानगर में 366 लोगों को दवा लगाई गई। सिरसा जिले में टीकाकरण का आंकड़ा शून्य रहा।

प्रत्येक हरियाणावासी को मुफ्त मिले कोरोना वैक्सीन : कुमारी सैलजा
हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने हरियाणा सरकार से प्रदेश वासियों को कोरोना वैक्सीन मुफ्त देने की मांग की है। कुमारी सैलजा ने कहा कि वैक्सीन पर आने वाला पूरा खर्च केंद्र की सरकार वहन करे। हरियाणा सरकार यह भी सुनिश्चित करे कि प्रदेश के प्रत्येक नागरिक को जल्द से जल्द सबसे सुरक्षित कोरोना वैक्सीन मिले। हरियाणा सरकार इन सबके लिए केंद्र सरकार पर दबाव बनाए।

कुमारी सैलजा ने कहा कि अभी हाल ही में हुए बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अपने चुनावी घोषणापत्र में बिहार के सभी लोगों को मुफ्त कोरोना वैक्सीन देने का वादा किया था। इसके साथ ही अन्य राज्य सरकारों ने भी अपने नागरिकों के लिए मुफ्त वैक्सीन प्रदान करने की घोषणा की है। अगर अन्य स्थानों पर मुफ्त कोरोना वैक्सीन दी जा सकती है तो यह हरियाणा में भी मुमकिन है।
... और पढ़ें

एनएसयूआई के पूर्व अध्यक्ष आम आदमी पार्टी में शामिल, कई और नेताओं ने भी ली पार्टी की सदस्यता

आम आदमी पार्टी (आप) में सोमवार को एनएसयूआई के पूर्व अध्यक्ष और पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट के अधिवक्ता मनजिंदर सिंह भुल्लर शामिल हो गए हैं। इस दौरान कई अन्य दलों के नेताओं ने भी आप की सदस्यता ग्रहण की। इस मौके पर पंजाब के आप प्रभारी जरनैल सिंह और विधानसभा में विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा मौजूद रहे।

आम आदमी पार्टी की सदस्यता लेने वाले अधिवक्ता भुल्लर लंबे समय से ड्रग्स के खिलाफ बड़े पैमाने पर अभियान चला रहे हैं। उन्होंने नशे के खिलाफ हुसैनीवाला शहीद स्मारक से चंडीगढ़ में मुख्यमंत्री आवास तक 225 किलोमीटर का पैदल मार्च किया था। इस मौके पर भुल्लर ने कहा कि वे सक्रिय रूप से किसान आंदोलन में भाग ले रहे हैं और आंदोलन शुरू होने के बाद से ही दिल्ली के टीकरी और सिंधु बॉर्डर पर किसानों के लिए काम कर रहे हैं। 

फाजिल्का जिले के जलालाबाद निर्वाचन क्षेत्र से हरजीत सिंह, मुक्तसर जिले के मलोट विधानसभा क्षेत्र से सुखमिंदर सिंह सरन के साथ प्रकाश सिंह सरां (पंजाबी लोक गायक), कुलदीप सिंह भंगचढ़ी, वरिष्ठ अकाली नेता कश्मीर सिंह और डॉ. जसवीर सिंह पन्नू ने आप की सदस्यता ग्रहण की। पंजाब प्रभारी जरनैल सिंह ने कहा कि बड़ी संख्या में लोग रोजाना पार्टी में शामिल हो रहे हैं। इस अवसर पर रोपड़ से विधायक अमरजीत सिंह संधोआ, पार्टी महासचिव हरचंद सिंह बर्सट, पार्टी के राज्य कोषाध्यक्ष नीना मित्तल मौजूद रहीं।
... और पढ़ें

चंडीगढ़ के एक सोफे में क्या है खास, जो विदेश में 32 लाख में बिका, क्यों यहां के फर्नीचर की दुनिया दीवानी

शिअद कोर कमेटी की बैठक में नेता बोले- किसानों को परेड की अनुमति न देना संविधान का उल्लंघन

शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने केंद्र से मांग की है कि वह 26 जनवरी को किसानों को दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर शांतिपूर्वक ट्रैक्टर परेड की इजाजत दे। किसानों का यह सांविधानिक अधिकार है। केंद्र सरकार उनके इस अधिकार का हनन न करे। शिअद कोर कमेटी की बैठक में नेताओं ने कहा कि देश के किसान पहले ही दिल्ली में शांतिपूर्वक ट्रैक्टर परेड की घोषणा कर चुके हैं, ऐसे में उनकी परेड पर रोक लगाना न्यायोचित नहीं है।

पार्टी मुख्यालय में सोमवार को पत्रकारों को बैठक के बारे में जानकारी देते हुए हरचरन सिंह बैंस ने कहा कि शांतिपूर्ण लोकतांत्रिक परेड की अनुमति न देकर केंद्र ने उचित निर्णय नहीं लिया है। देश के किसान पहले ही घोषणा कर चुके हैं कि उनका शांतिपूर्ण मार्च उस संविधान की भावना को दर्शाएगा जिसके लिए राष्ट्र गणतंत्र दिवस मनाता है। 

बैठक में एक प्रस्ताव पारित कर कहा गया है कि सरकार को वास्तव में किसानों का धन्यवाद कर परेड को सुगम बनाना चाहिए। बैंस ने कहा कि पार्टी कोर कमेटी ने किसानों के खिलाफ एनआईए के दुरुपयोग की निंदा की है। 

‘एनआईए के नोटिस वापस ले केंद्र’
कोर कमेटी की बैठक में किसानों को एनआईए के नोटिस भेजे जाने की निंदा की गई। बैठक में शिअद नेताओं ने केंद्र सरकार से नोटिस वापस लेने की मांग की। बैठक में एक अन्य प्रस्ताव में पार्टी ने किसानों के संघर्ष को मजबूत करने का संकल्प लिया, क्योंकि यह पूरी तरह से उन आदर्शों तथा सिद्धांतों के अनुरूप है जिनके लिए पार्टी ने हमेशा लड़ाई का नेतृत्व किया है।
... और पढ़ें

पंजाब में मनाया गया महिला किसान दिवस, प्रदेश भर में धरना, ट्रैक्टर मार्च और पुतले फूंके गए

पंजाब भर में किसानों ने सोमवार को महिला किसान दिवस मनाया। इस दौरान पूरे पंजाब में जगह-जगह महिलाओं ने रैली निकाली। वहीं कई जगह केंद्र सरकार के पुतले भी फूंके। महिलाओं ने ट्रैक्टर मार्च के दौरान केंद्र सरकार से तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की। इस दौरान 26 जनवरी को प्रस्तावित किसानों की ट्रैक्टर परेड की रणनीति भी बनाई।

मुक्तसर में महिलाओं ने घेरा लघु सचिवालय
सैकड़ों महिलाओं ने सोमवार को मुक्तसर के लघु सचिवालय का घेराव कर केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। इस दौरान 12 से तीन बजे तक धरना लगाया। महिला किसान नेता इकबाल कौर बराड़ ने कहा कि महिलाओं का हर जगह पर सम्मान किया जाता है लेकिन केंद्र सरकार की गलत नीतियों के कारण महिलाएं आज सड़क पर धक्के खानों को मजबूर है। सरकार ने जो कृषि कानून पास किए हैं वह सभी लोगों के लिए खतरनाक है। सरकार ने देश के अन्नदाता के भविष्य को दांव में लगा दिया है। इन कानूनों के कारण किसानों के बच्चों का भविष्य खतरे में पड़ गया है। 



फिरोजपुर : महिलाओं ने फूंका केंद्र का पुतला
किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के बैनर तले किसान महिला दिवस पर विभिन्न गांवों की महिलाओं ने कृषि कानून के विरोध में केंद्र सरकार का पुतला फूंककर रोष जताया। महिलाओं ने फिरोजपुर, गुरुहरसहाए, झोक टहल सिंह, ममदोट, मक्खू, मल्लांवाला व अन्य गांवों में प्रदर्शन कर केंद्र और कारपोरेट घरानों के पुतले फूंके। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X