विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सोना पहनने वाले लोग रखें इन बातों का ख़ास ख्याल
Remedies for Wearing Gold

सोना पहनने वाले लोग रखें इन बातों का ख़ास ख्याल

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

CBSE Class 12th Result 2020: पंजाब, हरियाणा और ट्राइसिटी के विद्यार्थी ऐसे चेक करें नतीजे

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने 12वीं कक्षा के परीक्षा परिणाम घोषित कर दिए हैं।

पंजाब, हरियाणा और ट्राईसिटी के विद्यार्थी अपने नतीजे चेक कर सकते हैं। विद्यार्थी परिणाम आधिकारिक वेबसाइट cbseresults.nic.in पर देख सकते हैं। रिजल्ट से जुड़े अपडेट व जानकारी सीबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट cbse.nic.in पर भी उपलब्ध होगी। विद्यार्थी आईवीआर टेलीफोन नंबर और मोबाइल ऐप के जरिए भी रिजल्ट देख सकते हैं।

सीबीएसई की ओर से कहा गया है कि इस बार कोई मेरिट लिस्ट नहीं जारी होगी। आईसीएसई बोर्ड ने भी इस बार मेरिट लिस्ट नहीं जारी की थी। इस बार चंडीगढ़ का पास प्रतिशत 92.04 रहा है। वहीं पंचकूला ने 92.52 पास प्रतिशत के साथ इस बार चंडीगढ़ से अच्छा प्रदर्शन किया है।
 
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

चंडीगढ़ः जीएमसीएच-32 में भीड़ करने से रोका तो सिक्योरटी गार्ड को पीट-पीट कर मार डाला

चंडीगढ़ स्थित जीएमसीएच-32 के सिक्योरिटी गार्ड की युवकों ने पीट-पीट कर हत्या कर दी। उसने उन्हें भीड़ जमा करने से मना किया था। सिक्योरिटी गार्ड ने सड़क हादसे में इलाज करा रहे युवक के पास जमा लोगों को इकट्ठे होकर खड़े होने से रोका। इससे गुस्साए युवकों ने सिक्योरिटी गार्ड को इस कदर पीटा कि इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

मृतक की पहचान 51 वर्षीय श्यामसुंदर के रूप में हुई है। सेक्टर 34 थाना पुलिस ने हत्या की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। वारदात रविवार देर रात की है। बताया गया कि राम दरबार  से सड़क हादसे में घायल एक युवक को जीएमसीएच 32 में भर्ती करवाया गया। इस दौरान इमरजेंसी में कुछ लोगों की भीड़ जमा होने लगी।

इस दौरान जब सिक्योरिटी गार्ड वहां पहुंचे दो सभी को बाहर जाने को कहा। लेकिन इस बीच गुस्साए युवकों ने पहले तो सिक्योरिटी गार्ड से बहस बाजी पर उतर आए। मामला इस कदर बिगड़ गया है कि युवकों ने सिक्योरिटी गार्ड पर जमकर पिटाई कर मौके फरार हो गए। जिसके बाद रविवार सुबह सिक्योरिटी गार्ड श्याम सुंदर ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

वहीं पुलिस का कहना है कि अन्य फरार आरोपियों को जल्द गिरफ्तार वकर लिया जाएगा।
... और पढ़ें

तैयारीः पांच करोड़ की लागत से सेक्टर 43 में बनेगा रैन बसेरा, चीफ आर्किटेक्ट बनाएंगे डिजाइन

सैलानियों की सुविधा के लिए नगर निगम चंडीगढ़ सेक्टर-43 में करीब पांच करोड़ रुपये की लागत से एक रैन बसेरा बनवाने जा रहा है। इसके लिए प्रशासन ने निगम को भूमि भी आवंटित कर दी है। चीफ आर्किटेक्ट कपिल सेतिया जल्द इसका डिजाइन तैयार करके देंगे। बता दें कि हाल ही में हुई बैठक में निगम ने प्रशासन से रैन बसेरे की मांग की थी।

प्रशासन ने अपने रैन बसेरे पहले ही किसी न किसी को दे रखे हैं। ऐसे में काफी दिनों से अटके इस प्रोजेक्ट को अब सहमति मिल गई है। इस रैन बसेरे में 100 से ज्यादा लोगों के रहने की व्यवस्था होगी। चीफ अर्किटेक्ट से भूमि के हिसाब से रैन बसेरे का डिजाइन तैयार करने को कहा गया है।

साथ ही शहर अब ओडीएफ प्लस प्लस के लिए चुना जा चुका है, इसलिए रैन बसेरे में महिला, पुरुष व दिव्यांगो के लिए अलग-अलग व्यवस्था करने को कहा गया है। रैन बसेरा बनाने के लिए एनयूएलएम योजना के तहत निगम को केंद्र से फंड मिलेगा। डिजाइन तैयार होने के बाद उसे केंद्र को भेजा जाएगा। उसके बाद फंड रिलीज होगा। 
... और पढ़ें

वेबिनार में बोलीं पीड़िताएं- देश में बढ़ती दुष्कर्म की घटनाओं के लिए अश्लील वेबसाइट्स जिम्मेदार हैं

देश में दुष्कर्म की घटनाओं के भले ही अलग-अलग कारण रहे हों, लेकिन अधिकतर लड़कियों ने इसके लिए अश्लील (पोर्न) साइट्स को बड़ा जिम्मेदार माना है।

सेल्फी विद डाटर फाउंडेशन के वार अगेंस्ट रेप अभियान के तहत आयोजित वेबिनार में लड़कियों ने किसी सार्वजनिक प्लेटफार्म पर पहली बार दुष्कर्म के कारण, पीड़िता को मिलने वाले न्याय और सरकार के साथ न्यायपालिका की भूमिका पर खुलकर चर्चा की। दिल्ली के निर्भया रेप केस की एडवोकेट सीमा समृद्धि और अंतरराष्ट्रीय डॉक्यूमेंटरी मेकर विभा बख्शी समेत कई बुद्धीजीवियों ने देश में बनाए गए सख्त कानूनों का हवाला देते हुए दुष्कर्मी के खिलाफ न्याय मिलने तक जंग जारी रखने के लिए प्रेरित किया।

दुष्कर्म की शिकार दो लड़कियां इस वेबिनार में शामिल हुईं। हरियाणा के इतिहास में पहली बार किसी प्लेटफार्म पर आकर इन लड़कियों ने ह्रदय विदारक आपबीती सुनाई। सेल्फी विद डाटर फाउंडेशन एंड कंपेन ने वार अगेंस्ट रेप अभियान की शुरुआत करने का साहस जुटाया है। फाउंडेशन के संयोजक सुनील जागलान ने बताया कि वेबिनार में हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, राजस्थान, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र समेत विभिन्न राज्यों के दुष्कर्म के आंकड़े पेश करते हुए इसके कारणों पर खुलकर चर्चा की गई।

वेबिनार में अधिकतर वक्ताओं ने कहा कि पोर्न साइट दुष्कर्म की बढ़ती प्रवृत्ति की जिम्मेदार हैं। केंद्र सरकार ने एक बार इस पर प्रतिबंध भी लगाया था, लेकिन वह प्रभावित पक्ष के विरोध के आगे टिक नहीं पाया, जिसे सख्ती से लागू किए जाने की जरूरत है। सेल्फी विद डाटर फाउंडेशन एंड कंपेन से जुड़ी अंजुम इस्लाम, शहनाज, रिजवाना, वसीमा, आरस्तुन, अनवी अग्रवाल, पूजा और प्रिया पांडेय ने इस बहस में हिस्सा लिया।

एडवोकेट सीमा समृद्धि ने विभिन्न मामलों में आई धमकियों का जिक्र करते हुए कहा कि अब सरकारों ने कानून सख्त बना दिए हैं। यदि मजबूत पैरवी की जाए तो न्याय मिलना आसान है। अंतरराष्ट्रीय डॉक्यूमेंटरी मेकर विभा बख्शी ने सुझाव दिया कि केंद्र सरकार को पोर्न साइट्स पर सख्ती से प्रतिबंध लगाने की दिशा में कड़ा फैसला लेना होगा।

ये बड़े कारण बन रहे दुष्कर्म की वजह
फाउंडेशन के संयोजक सुनील जागलान के मुताबिक करीब ढाई घंटे तक चले वेबिनार में पोर्न साइट्स, नशे के फैलते जाल, पुरुषों की दुर्बल मानसिकता, महिलाओं का कमजोर आत्मविश्वास, किसी भी शहर या गांव में मवालियों का एकांत अड्डा, मजबूत कानून के बावजूद कमजोर पैरवी व सामाजिक मान मर्यादा का डर न केवल अपराध का बड़ा कारण है, बल्कि न्याय में बड़ी बाधा है।
... और पढ़ें

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने चेताया- पंजाब में कोरोना संकट गहराया, पारिवारिक समारोह पर लगेगा बैन

सांकेतिक तस्वीर
कोविड के मामलों की बढ़ती संख्या के चलते पंजाब सरकार ने राज्य में कुछ और सख्त कदम उठाने की तैयारी कर ली है। इसमें सामाजिक, सार्वजनिक और पारिवारिक समारोहों पर बंदिशों सहित कामकाज के दौरान भी मास्क पहनना लाजिमी होगा। फेसबुक लाइव सेशन ‘कैप्टन से सवाल’ के दौरान रविवार को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एलान किया कि कोरोना वायरस को आगे फैलने से रोकने के लिए सख्ती बहुत जरूरी है।

वे नहीं चाहते कि पंजाब भी मुंबई, दिल्ली या तमिलनाडु के रास्ते पर बढ़े। यह पूछे जाने पर कि राज्य सरकार कोविड के फैलाव को रोकने के लिए हफ्ते के अंतिम दिनों के लिए लॉकडाउन क्यों नहीं लगाती, उन्होंने कहा कि रविवार को पहले ही लॉकडाउन लगाया हुआ है और सरकार पूरी स्थिति पर नजर रख रही है। जो कदम जरूरी होंगे, वे उठाए जाएंगे।

कैप्टन ने सभी राजनीतिक पार्टियों से अपील की कि वे पंजाबियों की जिंदगी बचाने के लिए किसी किस्म के जलसे से परहेज करें। उन्होंने कहा कि पंजाब को बचाने की हम सभी की साझी जिम्मेदारी है। राजनीति इंतजार कर सकती है।

कई फ्रंटलाइन वर्करों और सरकारी अफसरों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने समेत कोविड मामलों की बढ़ती संख्या पर चिंता जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि दवा का अभी कोई पता नहीं और लोगों को कोरोना से लड़ने के लिए छोड़ दिया गया है।

शनिवार को मास्क न पहनने के लिए 5100 लोगों के चालान किए गए जबकि कुछ स्थानों पर सार्वजनिक तौर पर थूकने के भी मामले सामने आए। लोगों को ऐसा कुछ करने की आज्ञा नहीं दी जाएगी। राज्य सरकार जरूरतमंदों को पुन: प्रयोग और धोने वाले मास्क बांटेगी।
... और पढ़ें

हरियाणा में मंत्रिमंडल विस्तार और बरौदा उपचुनाव को लेकर तेज हुई हलचल, शाह से मिले दुष्यंत

हरियाणा में मंत्रिमंडल विस्तार, चेयरमैन की नियुक्तियों व बरौदा उपचुनाव को लेकर हलचल तेज हो गई है। सीएम मनोहर लाल की पीएम नरेंद्र मोदी व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात के बाद डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने दिल्ली में दस्तक दी है। दुष्यंत रविवार को दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिले।

सूत्रों के अनुसार दुष्यंत ने मंत्रिमंडल विस्तार, चेयरमैन की नियुक्तियों व बरौदा उपचुनाव में उम्मीदवार को लेकर अपना दावा पेश किया है। दुष्यंत मंत्रिमंडल फेरबदल में कम से कम एक पद जजपा के कोटे के साथ ही चेयरमैन के पद पर भी अपने अधिकतर विधायकों को एडजस्ट कराना चाहते हैं। इसलिए उन्होंने सीएम के बाद दिल्ली में भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष व गृहमंत्री अमित शाह के समक्ष अपनी बात रखी है।

दुष्यंत ने शाह को सरकार के अब तक के कार्यकाल व कामकाज की भी रिपोर्ट दी है। सूत्रों के अनुसार चर्चा यह भी है कि बरौदा सीट भाजपा-जजपा में से किसी के भी हिस्से में जा सकती है। जाट बहुल इस सीट पर गठबंधन सरकार एकजुट लड़ी तो जीत ज्यादा दूर नहीं, इसलिए उम्मीदवार दोनों की पसंद का होना जरूरी है।

सीएम भी बीते सप्ताह दिल्ली दौरे में भाजपा आलाकमान के समक्ष सभी स्थितियां स्पष्ट कर चुके हैं। भाजपा की प्राथमिकता इस समय बरौदा उपचुनाव को जीतकर राजनीतिक संदेश देने की है। साथ ही प्रदेशाध्यक्ष बदलने की गतिविधियां भी तेजी से चल रही हैं, जबकि जजपा बरौदा उपचुनाव से पहले मंत्रिमंडल विस्तार व चेयरमैन की नियुक्तियों पर फोकस किए हुए है।
... और पढ़ें

कैप्टन अमरिंदर सिंह का हरियाणा की तर्ज पर नौकरियों में कोटा देने से इनकार, वजह भी बताई

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हरियाणा की तर्ज पर राज्य के नौजवानों के लिए नौकरियों में कोटे की संभावना से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि उनकी नज़र में पड़ोसी राज्य द्वारा हाल ही में लिया गया फैसला न्यायिक जांच पर खरा नहीं उतर सकेगा।

मुख्यमंत्री ने यह बात रविवार को ‘कैप्टन से सवाल’ सैशन के दौरान कई नौजवानों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब में कही। यह पूछे जाने पर कि उनकी सरकार इस संबंध में हरियाणा मॉडल क्यों नहीं अपना सकती क्योंकि पंजाब में ज्यादातर बाहरी व्यक्ति ही नौकरियां हासिल कर रहे हैं, कैप्टन ने कहा कि संविधान और कानून नौकरियों के मामले में ऐसे किसी भी भेदभाव की इजाजत नहीं देता।

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि पंजाबी लोग पूरे देश में नौकरियां कर रहे हैं और किसी राज्य द्वारा इस संबंध में कोई भी पाबंदी नहीं है। उन्होंने कहा कि हम दूसरे राज्यों के नौजवानों को पंजाब में नौकरियां लेने से नहीं रोक सकते। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी नजर में हरियाणा का फैसला अदालतों की जांच में खरा नहीं उतर पाएगा।

विकास दूबे एनकाउंटर में सच सामने आना चाहिए: कैप्टन
गैंगस्टर विकास दुबे के यूपी में एनकाउंटर के संबंध में पूछे जाने पर कैप्टन ने कहा कि हालांकि वह इस मुद्दे पर टिप्पणी नहीं कर सकते लेकिन कांग्रेस द्वारा इस संबंध में जांच की मांग करना बिल्कुल जायज है। उन्होंने यह भी कहा कि सत्य सामने आना चाहिए।
... और पढ़ें

‘कैप्टन से सवाल’ सत्र में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने दिए कई सवालों के जवाब, विशेष इंटरव्यू पढ़ें

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शिक्षा विभाग को ऐसे विद्यार्थियों के लिए ऑनलाइन शिक्षा यकीनी बनाने के निर्देश दिए हैं, जिनके पास आवश्यक आनलाइन सुविधा नहीं है। उन्होंने विभाग को ऐसी कोई विधि ढूंढने को कहा है। मुख्यमंत्री ने रविवार को ‘कैप्टन से सवाल’ सत्र के दौरान एक सवाल के जवाब में कहा कि कोविड -19 के कारण रेगुलर ऑफलाइन कक्षाएं संभव नहीं हैं।

इस वजह से यह लाजिमी हो जाता है कि गरीब और ग्रामीण समेत सभी विद्यार्थियों को शिक्षा के समान मौके मिलें। शिक्षा विभाग ऐसे विद्यार्थियों को शिक्षा देने के तरीकों की आलोचना कर रहा है, जिनके पास ऑनलाइन सुविधा न होने के कारण शिक्षा हासिल करना चुनौती बन गया है। उन्होंने कहा कि नई विधि जल्दी ही लागू हो जाएगी, जिससे लंबे समय से फिजिकल क्लासों के बंद होने से इन विद्यार्थियों की पढ़ाई का नुकसान नहीं होगा।

एक सवाल के जवाब में कैप्टन सिंह ने कहा कि उनकी सरकार पहले ही हाईकोर्ट के उस फैसले के खिलाफ एलपीए दाखिल कर चुकी है, जिसमें उन्होंने प्राइवेट स्कूलों को लॉकडाउन के समय के लिए भी फीसें वसूलने की आज्ञा दी, जब ऑनलाइन क्लासें भी नहीं लग रही थीं।

यूजीसी के ताजा दिशानिर्देशों से सहमत नहीं हूं : कैप्टन
आखिरी साल के विद्यार्थियों के लिए यूनिवर्सिटी और कॉलेजों की परीक्षाओं के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि वह यूजीसी द्वारा हाल ही में जारी दिशानिर्देशों से सहमत नहीं हैं, जिसके अंतर्गत सितंबर महीने तक लाजिमी इम्तिहान करवाने की बात कही गई है। उन्होंने कहा कि यूजीसी को यह फैसला राज्यों पर छोड़ देना चाहिए, जो जमीनी हकीकत को देखकर फैसला करें। उन्होंने आशा जताई कि प्रधानमंत्री, जिन्हें उन्होंने कल पत्र लिखा है, इस संबंधी राज्यों की शंकाओं के मद्देनजर विद्यार्थियों की सुरक्षा के हितों का ख्याल रखते हुए दखल देंगे।
... और पढ़ें

हरियाणा पुलिस की विशेष पहल, अब जांच शुरू होते ही ऑनलाइन होगी अपराधों की कहानी

हरियाणा पुलिस के जांच अधिकारियों को कागज, कलम व फाइलों के झंझट से जल्द छुटकारा मिलने वाला है। पुलिस आधुनिकीकरण के तहत सभी जांच अधिकारियों को टैब दिए जाएंगे। इससे किसी भी मामले की जांच शुरू होते ही अपराध का पूरा ब्यौरा तुरंत ऑनलाइन अपडेट करना होगा। एडीजीपी लॉ एंड ऑर्डर नवदीप सिंह विर्क के अनुसार जांच अधिकारियों को टैब देने के प्रयास शुरू कर दिए हैं।

टैब मिलने पर पूरा पुलिस वर्क ऑनलाइन होगा। तफ्तीश की पूरी जानकारी तुरंत सर्वर पर अपलोड करनी होगी। इससे जहां काम में तेजी आएगी, वहीं गलतियों की संभावना न के बराबर रहेगी। पुलिस तफ्तीश में जुटाए साक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ की गुंजाइश को कम किया जा सकेगा। रिकॉर्ड तुरंत अपलोड होने पर तफ्तीश में लगने वाले आरोपों में भी कमी आएगी। विभाग का प्रयास है कि टैब देने की प्रक्रिया जल्दी पूरी कर ली जाए।

अभी मैनुअल होता है काम
पुलिस विभाग में दर्ज होने वाले मामलों की जांच का रिकॉर्ड अभी अधिकारी मैनुअल तरीके से रखते हैं। इसमें सुबूतों से छेड़छाड़ की संभावना भी बनी रहती है। तथ्यों में गड़बड़ी से भी इंकार नहीं किया जा सकता। टैब मिलने पर स्टेशनरी जुटाने की टेंशन खत्म हो जाएगी।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us